Thursday, May 3, 2012

कि.....मैं तुम्हें......

मैं अपनी पलकों पर 
तुम्हारे 
इशारों के जाल 
बुनता हूँ......
तुम्हारे 
ख्वाबों की  उड़ान  में 
साथ-साथ 
उड़ता हूँ.......
सहेजता हूँ  तुम्हारी 
मिठास,
मन  के  कोने-कोने  में
कि.....मैं  तुम्हें
बेहद प्यार करता हूँ 

                                                                                                                                                                           

28 comments:

  1. madhur bhbbhini rachna .bhavvibhr kar gai.

    ReplyDelete
  2. waah..............

    is pyaar par pyaar aaya.....

    saadar.

    ReplyDelete
  3. वाह ...बहुत ही खूब ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति // बेहतरीन रचना //

    MY RECENT POST ....काव्यान्जलि ....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  5. सहेजता हूँ तुम्हारी
    मिठास,
    मन के कोने-कोने में
    कि.....मैं तुम्हें
    बेहद प्यार करता हूँ
    प्यारी सी मीठी सी रचना...सादर

    ReplyDelete
  6. बहुत प्यारी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. तुम्हारे
    ख्वाबों की उड़ान में
    साथ-साथ
    उड़ता हूँ.......
    when we love we fly,bend,as well as emergs.

    ReplyDelete
  8. वाह ॥कितने कोमल से एहसास ....

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  10. मीठी |
    सुन्दर प्रस्तुति ।

    आभार ।।

    ReplyDelete
  11. Chhoti-si magar behad pyari rachana!

    ReplyDelete
  12. आपकी रचनाएँ सुकोमल भावों से ओत-प्रोत होतीं हैं ...बहुत सुंदर रचना ...
    .इस बार आपको आमंत्रित कर रही हूँ अपनी रचना पढ़ने के लिए ...!
    अपने विचार ज़रूर दीजियेगा ....!!

    ReplyDelete
  13. इस पर अंग्रेजी में टिप्पणी देना चाहती हूं short and sweet :)

    ReplyDelete
  14. वाह बहुत खूब ......

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब ... बयान करने का अंदाज़ भी लाजवाब ...

    ReplyDelete
  16. भावों से नाजुक शब्‍द......

    ReplyDelete
  17. सुकोमल अहसास से भरी सुंदर अभिव्यक्ती....
    सुंदर रचना....

    ReplyDelete
  18. han sach kaha yahi to bol hain jo jata jate hain ki vo bahut pyar karte hain.

    ReplyDelete
  19. एक विश्वास युक्त प्रभावी सन्देश ..
    शुभकामनायें आपको मृदुला जी !

    ReplyDelete