Tuesday, February 12, 2013

सूरज की पहली किरण से........


सूरज की पहली किरण से
नहाकर तुम 
और 
गूँथकर चाँदनी को 
अपने
 बालों में ,मैं 
चलो स्वागत करें ,
ऋतु-वसंत का .......
आसमान की भुजाओं में 
थमा दें ,
पराग की झोली 
और 
दूर-दूर तक उड़ायें ,
मौसम का गुलाल.
रच लें 
हथेलियों पर ,
केशर की पंखुड़ियाँ,
बांध लें 
सांसों में,जवाकुसुम की 
मिठास ,सजा लें 
सपनों में 
गुलमोहर के चटकीले 
रंग ,
बिखेर लें कल्पनाओं में,
जूही की कलियाँ ......कि
 ऋतु-वसंत है .......
सूरज की पहली किरण से 
नहाकर तुम 
और 
गूँथकर चाँदनी को 
अपने 
बालों में, मैं 
चलो स्वागत करें.
हवाओं के आँचल पर 
खोल दें
ख्वाबों के पर ,
तरु-दल के स्पंदन से 
आकांछाओं के
जाल बुनें ,
झूम आयें गुलाब के 
गुच्छों पर,
नर्म पत्तों की 
महक से चलो, कुछ 
बात करें.
आसमानी उजालों में 
सोने की धूप 
छुयें,
मकरंद के पंखों से,
कलियों को 
जगायें....कि
ऋतु-वसंत है.......
सूरज की पहली किरण से 
नहाकर तुम 
और 
गूँथकर चाँदनी को 
अपने 
बालों में, मैं 
चलो स्वागत करें.
  

21 comments:

  1. गूँथकर चाँदनी को
    अपने
    बालों में, मैं
    चलो स्वागत करें.......beautifullllllllllllllllllllllllllllllllllllllllllllll


    ReplyDelete
  2. ऋतुराज बसंत का भव्य स्वागत...सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना............गूँथकर चाँदनी को
    अपने
    बालों में ,मैं
    चलो स्वागत करें ,
    ऋतु-वसंत का .......

    ReplyDelete
  4. कविता बहुत सुंदर है पर बहुत छोटे फॉन्ट हैं, पढ़ने में कुछ असुविधा होती है..

    ReplyDelete
  5. सुंदर अभिव्यक्ति ,,,

    आप कृपया बड़े फॉण्ट में लिखे पढने में परेशानी होती है,,,

    RECENT POST... नवगीत,

    ReplyDelete
  6. आपकी बात बात फूलों की ...।वसन्त सी ही सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  7. सूरज की पहली किरण से
    नहाकर तुम
    और
    गूँथकर चाँदनी को
    अपने
    बालों में, मैं
    चलो स्वागत करें.

    बहुत सुंदर स्वागत बसंत का ...

    ReplyDelete
  8. वाह वाह मृदुला जी ! मन खिल उठा ! वसंत के स्वागत के लिए बड़ी मनभावन तैयारी की है आपने ! बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर भावनात्मक प्रस्तुति .बसन्त पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ मीडियाई वेलेंटाइन तेजाबी गुलाब संवैधानिक मर्यादा का पालन करें कैग

    ReplyDelete
  10. वाह ... बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. वसन्त सी ही सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  12. बसंत सी खिली सुंदर कविता ...!!

    ReplyDelete
  13. वसंत का स्वागत... सुन्दर भाव, शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete