Monday, September 16, 2013

अम्मा बाज़ार नहीं जाती थीं......

अम्मा बाज़ार नहीं जाती थीं.....त्योहारों पर बाबुजी थाक-पर थाक साड़ी लेकर घर आते थे और घर ही में पसंद की साड़ी चुनती थीं......क्या ज़माना था.  

3 comments:

  1. :-)

    सच.....क्या ज़माना था...

    अनु

    ReplyDelete
  2. अब ये सब बातें स्वप्न की तरह हैं ...

    ReplyDelete