Monday, April 19, 2010

पिता के बाद.........

बची हुई माँ
अचानक
कितनी निस्तेज
लगने लगती है.
एक नए प्रतिबिम्ब मे
तब्दील हुई
खुद को ही नहीं
पहचानती है,
बेरंग आँखों की
उदासी से
उद्वेलित मन को
बांधती है,
सुबह-शाम की
उँगलियाँ थामें
अपने-आप ही
संभलती है,
तूफान के प्रकोप को
समेटती हुई
रुक- रुक कर
चलती है.
सूनेपन को
जाने किस ताकत से
हटाती है,
यादों के प्रसून-वन में
हँसती-मुस्कुराती है,
भावनाओं के साथ
युद्ध करते हुए,
आँसुओं को
पी जाती है और
कभी कमज़ोर दिखनेवाली
माँ
अचानक
कितनी मजबूत
लगने लगती है.

48 comments:

  1. bahut khub

    bahut gahre vichar


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. अश्रुपूरित नेत्रों से यह टिप्पणी आपके चरणों में अर्पित कर रहा हूँ... माँएँ कभी कमज़ोर नहीं होतीं... जो एक मज़बूत राष्ट्र को जन्म दे वह कम्ज़ोर कैसे हो सकती है... तभी तो किसी ने कहा था कि तुम मुझे एक अच्छी माँ दो,तुम्हें मैं एक अच्छा राष्ट्र दूँगा...

    ReplyDelete
  3. मृदुला जी ! रचना पढकर आँखों में आंसू आ गये ! पिता के बाद माँ बचती ही कहाँ है ! मजी हुई कविता सम्वेदना छोड़ जाती है ! आभार !

    ReplyDelete
  4. It is hard to find words which can be suitable for a comment. It is beautiful as well as full of grief. Difficult to read without getting tears in my eyes.

    ReplyDelete
  5. भावनाओं की उथल पुथल मचा देने वाली कविता । पिता के बाद की मां का सही वर्णन किया है आपने । पर यह ताकत स्त्री में ही होती है कि तूफान के बाद भी वह सम्हल जाती है और सम्हाल भी लेती है ।

    ReplyDelete
  6. Watched Mother India very recently.
    The poem punctuates the struggle depicted in the movie.
    Great Work!
    Regards!

    ReplyDelete
  7. कविता का शीर्षक, शब्द और भाव बेजोड़ हैं - बधाई तथा ऐसी सोच के लिए आभार.

    ReplyDelete
  8. समेटती हुई

    रुक- रुक कर

    चलती है.

    सूनेपन को

    जाने किस ताकत से

    हटाती है,

    नमन है उस माँ को .....!!

    ReplyDelete
  9. कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती है.

    माँ खंड खंड होते हुए भी कमजोर नहीं होती
    बहुत सुन्दर एहसास

    ReplyDelete
  10. पतिके बिना कितनी अधूरी हो जाती है पर एक माँ की तरह वह
    बहुत सशक्त हो कर उभरती है |आपने बहुत सही चित्रण किया है |
    सार्थक कविता के लिए बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  11. Mai pahli baar aayi hun aapke blogpe...abhibhoot hun!

    ReplyDelete
  12. माँ आखिर माँ है
    उसे ईश्वर ने मजबूती दी है
    तभी यह जगत स्थित है।

    बहुत ही अच्छी कविता
    आभार

    ReplyDelete
  13. mridula ji maan ki mahima anant hai...aap to swayam ek naari hain aapse achcha bhala kaun samjhega....bahut sundar

    ReplyDelete
  14. कुछ कहना तो चाहता हूँ, पर कह नहीं पा रहा।
    बस आप समझ लीजिए, अनकहा…

    ReplyDelete
  15. /////////////////////////////////////////
    इसे पढ़के मिला जो सुख उसे मैं कह नहीं सकता।
    बिना बांधे, सही तारीफ के पुल रह नहीं सकता।
    हृदयस्पर्शी अनुभूति......बधाई स्वीकारें।
    सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी
    /////////////////////////////////////////

    ReplyDelete
  16. आप इतनी यश प्राप्त कवयित्री हैं ... आपके कलम से अच्छी और परिपक्व कविता तो आएँगी ही ... जो किसी भी तारीफ़ के मोहताज नहीं होंगी ... पर फिर भी यह कहना चाहूँगा की सच में आपके कलम में कमाल का हुनर है ... माँ पर लिखी यह कविता बहुत ही सुन्दर हृदयस्पर्शी कविता है ... नारी ह्रदय का अत्यंत सुन्दर वर्णन है ...
    आप मेरे ब्लॉग में आये तथा मेरी कविता को पसंद किये यह मेरा अहोभाग्य है ... आपका हमेशा स्वागत है !

    ReplyDelete
  17. हृदयस्पर्शी अनुभूति
    बधाई स्वीकारें।
    माँ पर लिखी मेरी एक मर्मस्पर्शी कविता मेरे ब्लॉग पर भी पढ़ें "आज भी "
    http://rachanaravindra.blogspot.com/2009/11/blog-post_16.html

    ReplyDelete
  18. पिता के बाद.........

    बची हुई माँ
    अचानक
    कितनी निस्तेज
    लगने लगती है,
    एक नए प्रतिबिम्ब में
    तब्दील हुई
    खुद को ही नहीं
    पहचानती है,
    बेरंग आँखों की
    उदासी से
    उद्वेलित मन को
    बांधती है,
    सुबह-शाम की
    उँगलियाँ थामें
    अपने-आप ही
    संभलती है,
    तूफान के प्रकोप को
    समेटती हुई
    रुक- रुक कर
    चलती है.
    सूनेपन को
    जाने किस ताकत से
    हटाती है,
    यादों के प्रसून-वन में
    हँसती-मुस्कुराती है,
    भावनाओं के साथ
    युद्ध करते हुए,
    आँसुओं को
    पी जाती है और
    कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती है.
    itni achchhi rachna ko aise publish karti to jyada achchha lagta mere khyaal se.

    ReplyDelete
  19. आपकी यह प्रस्तुति दिल को छू गई।

    ReplyDelete
  20. मृदुला जी, प्रणाम,
    आपकी कई रचनाए आज पढ़ी, पढ़ते पढ़ते एक दूसरी दुनिया में खो सा गया मैं! भावनाओं के अतिरेक में आँखें नम भी हुई, दिल को कहीं गहरे तक छु कर लौटती है आपकी रचनाएँ, कमाल कि रचनाएँ हैं आपकी, मैं अब तक आपके ब्लॉग से दूर रहा उसका अफ़सोस है !

    ReplyDelete
  21. सुबह-शाम की

    उँगलियाँ थामें

    अपने-आप ही

    संभलती है,

    तूफान के प्रकोप को
    .............bahut marmik rachna.

    ReplyDelete
  22. heart touching lines.....bahut bahut sahi tasveer kichi hai apne.....hame itni sundar rachna padhane kay liye dhanyavad

    ReplyDelete
  23. Beautifully crafted emotions....beyond words!

    ReplyDelete
  24. Tippani me kya likhun.Bas mahsoos kar sakti hoon.shubkamnayen.

    ReplyDelete
  25. Hridya sparshi rachna!!
    Mridula jee!! Sach kahun to vevahik sambandh ka sab se jaruri aur sabse aham hissa to proddh awastha me hi hota hai.........hamne dekha hai, kaise dada jee meree maiya (dadi) ka khyal rakhte the........!!

    Rachna ke liye to kuchh kah hi nahi sakta, shabd nahi hain............:)
    God bless mam!!

    ReplyDelete
  26. bahut hi samvedan sheel rachna.isee liye to vo maa kahalati hain.jo har paristhiti se samjhouta karti jati hai.
    poonam

    ReplyDelete
  27. कविता का शीर्षक, शब्द और भाव बेजोड़ हैं - बधाई तथा ऐसी सोच के लिए आभार.

    ReplyDelete
  28. मृदुला जी बहुत अच्छी रचना ।
    आप का मेरे ब्लांक पर आने का बहुत बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  29. "आँसुओं को
    पी जाती है और
    कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती है. "
    IN PANKTIYON NE DIL CHU LIYA!!
    BEHAD SUNDAR RACHNA......

    ReplyDelete
  30. dil ko choo lene waali rachna.....
    bahut sundar....
    -----------------------------------
    mere blog mein is baar...
    जाने क्यूँ उदास है मन....
    jaroora aayein
    regards
    http://i555.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. Dost, aaj pehli baar aapke page par aaye to laga itne dino mein kitna kuch miss kar diye...ek ek shabd jaise canvas pe laga ek ek stroke hai jo puri tasveer bana deta hai aapki. best regards, ani

    ReplyDelete
  32. 'कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती है.'

    - माँ कभी कमजोर नहीं होती.ऐसा दिख जरूर सकती है.

    ReplyDelete
  33. 'कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती है.'

    - माँ कभी कमजोर नहीं होती.ऐसा दिख जरूर सकती है.

    ReplyDelete
  34. bahut khub rachna.......abhar

    ReplyDelete
  35. mem namaskaar , aapney merey blog main visit kiya iskey liye aapka bahut-bahut dhanyvad,asha hai marg darshan krtey rahengey.

    ReplyDelete
  36. Bahut hee dard bhra sach...
    Jee han bilkul 100% sach....
    Aap ne us maa kee baat kee hai jo pita ke jane ke baad ...bachon ko ehsas tak nahee hone detee ke us ko bhee koee dukh hai...bas chtaan ban jatee hai ....bachon kee har mushkil ke aage...

    ReplyDelete
  37. ...बहुत ही सुन्दर हृदयस्पर्शी कविता

    ReplyDelete
  38. सूनेपन को
    जाने किस ताकत से
    हटाती है,
    यादों के प्रसून-वन में
    हँसती-मुस्कुराती है,
    भावनाओं के साथ
    युद्ध करते हुए,
    आँसुओं को
    पी जाती है और
    कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती
    सच कहा है आपने----यही तो मां हैं---कविता पढ़ते पढ़ते मां के साथ बातें करने लगा। इतनी भावपूर्ण कविता के लिये हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  39. बची हुई माँ !!!!
    अद्भुत .
    'बची हुई ' में जो अभिव्यंजना है वह अद्वितीय है.
    नमन . बार-बार नमन .

    ReplyDelete
  40. कभी कमज़ोर दिखनेवाली
    माँ
    अचानक
    कितनी मजबूत
    लगने लगती-
    आपकी ये पंक्तियाँ संघर्षों में लड़ने की ताकत देती हैं।
    -रामेश्वर काम्बोज

    ReplyDelete
  41. कमजोर दिखने वाली माँ मजबूत दिखने लगी है ...बहुत भावप्रवण रचना ..

    ReplyDelete
  42. दिल को छूने वाली रचना...मैंने भी अपनी मां को ऐसे ही पाया...
    पर हड्डियों के ढांचे में...मन से मजबूत...

    ReplyDelete
  43. मर्मस्पर्शी प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete