Monday, January 16, 2012

जाड़ों में प्रायः.......

जाड़ों में
प्रायः
दिख जाते हैं,
वृद्ध-दंपत्ति, झुकी हुई
माँ ,कांपते हुए
पिता.....धूप सेकते हुए.....
कभी 'पार्क'में,कभी
'बालकनी'में,
कभी 'लॉन' में
तो कभी'बरामदों' में.
मोड़-मोड़कर
चढ़ाये हुए 'आस्तीन'
और
खींच-खींचकर
लगाये हुए'पिन' में
दिख जाता है.......
वर्षों से
विदेशों में बसे,
उनके
धनाढ्य,
बाल-बच्चों का
भेजा हुआ,
बेहिसाब प्यार .
ऊल-जलूल ,पुराने,
शरीर से
कई गुना बड़े-बेढंगे
कपड़ों का,
दुःखद सामंजस्य,
सुदूर........किसी देश में,
सम्पन्नता की
परतों में
लिपटी हुई नस्ल को,
धिक्कारती.......
ठंढ से, निश्चय ही
बचा लेती है,
इस पीढ़ी की
सामर्थ्य को,
संभाल लेती है........लेकिन
कृतघ्नता  के आघात की
वेदना का
क्या......
आपसे अनुरोध है,
इतना ज़रूर कीजियेगा,
कभी किसी देश में
मिल जाये
वो नस्ल......तो
इंसानियत का,
कम-से कम
एक पर्चा,
ज़रूर
पढ़ा दीजियेगा.......... 



  

33 comments:

  1. वाह वाह..
    बेहतरीन रचना मृदुला जी...
    दिल को कहीं गहरे तक छू गयी...
    सादर.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही उम्दा और दिल को छूने वाली रचना ...

    आप के ब्लॉग पर पहली बार आई हूँ , ख़ुशी हुई आप के ब्लॉग पर आकर...फोलो कर रही हूँ,उम्मीद है आना जाना लगा रहेगा .......

    ReplyDelete
  3. कभी किसी देश में
    मिल जाये
    वो नस्ल......तो
    इंसानियत का,
    कम-से कम
    एक पर्चा,
    ज़रूर
    पढ़ा दीजियेगा.....

    ...बहुत खूब...हरेक पंक्ति दिल को छू गयी..बज़ुर्गों की अवस्था का सटीक चित्रण..

    ReplyDelete
  4. दिल को छू गई आपकी ये रचना ...आभार

    ReplyDelete
  5. तेजी का दौर है ... पैसे के पीछे भाग रहे हैं सब ... पर ऐसा आज कल बस विदेश में रहने वाले ही नहीं देश में रहने वाले बच्छे भी बहुत करते हैं ...

    ReplyDelete
  6. यह दृष्टि उधर भी हो ... बहुत नम से जज़्बात

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aah! Samajh me nahee aata aur kya kahun?

      Delete
  7. दिल को छूते शब्‍द ...

    ReplyDelete
  8. jis shahar mein main rehta hun.. waha to ye drishya aam hain... dehradun to jana hi retired logo k liye jata hain.. bujurg parents yaha par aur bache videsho mein settled....

    behad acchi rachna...

    ReplyDelete
  9. वाह,सटीक और सामयिक रचना.

    ReplyDelete
  10. यह नस्‍ल आजकल हर घर में है।

    ReplyDelete
  11. jo jeevit nahee rahtaa
    sardee ke prakop se
    use aglee sardee mein
    yahin padaa rahtaa thaa
    ek bhikhaaree
    ab dikhtaa nahee
    kah kar yaad kiyaa jaataa

    yathaarth se paripoorn rachnaa
    jo likhte hein aap wo sab saaf saaf sab vaise hee dikhtaa

    ReplyDelete
  12. भावों से नाजुक शब्‍द......बेजोड़ भावाभियक्ति.

    ReplyDelete
  13. hah ! jinhe hare noto ki chamak dikhe unki aankh se parde kahan utarte hai...maa-baap ke jarzer shareer aur swaaha hote armaan kahan dikhte hain.

    sateek abhivyakti.

    ReplyDelete
  14. ऐसा ही हो रहा है आजकल और इसके पीछे कुछ हाथ तो मातापिता का भी है जो बड़े चाव से बच्चों को बाहर भेजते हैं...दूरदर्शी नहीं होते न.

    ReplyDelete
  15. एक सार्थक भावपूर्ण रचना...

    नीरज

    ReplyDelete
  16. waaah....kya likha hain....insaniyat ka parcha bhi kya padh paayenge aise log.

    ReplyDelete
  17. दिल को छूने वाली रचना ...

    ReplyDelete
  18. बहुत ही सुंदर .... एक एक पंक्तियों ने मन को छू लिया ...

    ReplyDelete
  19. जरूर पर्चा पढ़ाउंगा.. पर यह एक अतिगंभीर मुददा ही तो है कि आखिर हमही तो उसे इस तरह बनाते है कि वह जमीन छोड़ आकाश में घर बसा ले, दर्द तो है पर अपना ही बनाया हुआ।

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुंदर रचना ,बेहतरीन प्रस्तुति,.लाजबाब पंक्तियाँ
    welcome to new post...वाह रे मंहगाई

    ReplyDelete
  21. धनाढ्य,
    बाल-बच्चों का
    भेजा हुआ,
    बेहिसाब प्यार .
    ऊल-जलूल ,पुराने,
    शरीर से
    कई गुना बड़े-बेढंगे
    कपड़ों का,
    दुःखद सामंजस्य,
    सुदूर........किसी देश में,
    सम्पन्नता की
    परतों में
    लिपटी हुई नस्ल को,
    धिक्कारती.......

    bahut gahari samvedana ke sath ak utkrsht rachana lagi .....badhai Pardhan ji.

    ReplyDelete
  22. उनके
    धनाढ्य,
    बाल-बच्चों का
    भेजा हुआ,
    बेहिसाब प्यार .
    ऊल-जलूल ,पुराने,
    शरीर से
    कई गुना बड़े-बेढंगे
    कपड़ों का,

    यह सही है मैंने भी इस बात को बहुत बार
    देखा है ! अच्छी रचना ....आभार !

    ReplyDelete
  23. वर्षों से
    विदेशों में बसे,
    उनके
    धनाढ्य,
    बाल-बच्चों का
    भेजा हुआ,
    बेहिसाब प्यार .
    ऊल-जलूल ,पुराने,
    शरीर से
    कई गुना बड़े-बेढंगे
    कपड़ों का,
    दुःखद सामंजस्य,
    सुदूर........किसी देश में,
    bahut badhiya rachna
    aabhar.......

    ReplyDelete
  24. नमस्कार मृदुला जी
    बहुत उम्दा पोस्ट . आपकी पोस्ट पर आना हमेशा सुखद अनुभव होता है . पीडी की तकलीफ और समस्या को आपने गहरी से प्रस्तुत किया है .बधाई स्वीकारें .:)

    ReplyDelete
  25. इंसानियत का,
    कम-से कम
    एक पर्चा,
    ज़रूर
    पढ़ा दीजियेगा..........
    सही कहा आपने।

    ReplyDelete
  26. आपकी कविता सदा घनी भावों से भरी होती है । आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ । .मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  27. umda bhav.....man me utar gaye

    ReplyDelete
  28. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  29. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी रचना,..

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    ReplyDelete
  30. बेकार है कोशिश उन्हें इंसानियत पढाने की ,हमने ही परवरिश में खताएं की थीं.
    गणतंत्र दिवस हम सभी भारतवासियों को मुबारक हो.

    इलाही वो भी दिन होगा जब अपना राज देखेंगे
    जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा.

    ReplyDelete