Wednesday, July 25, 2012

कतय स्वतंत्रता-दिवस गेल........


कतय स्वतंत्रता-दिवस गेल,
झंडा क गीत 
कतय सकुचायेल,
दृश्य सोहनगर,देखबैया
छथि 
कतय नुकाएल.
लालकिला आर कुतुबमिनारक
के नापो ऊँचाई,
चिड़ियाघर जंतर-मंतर क 
छूटल 
आबा-जाही.
पिकनिक क पूरी-भुजिया 
निमकी,दालमोट,
अचार,
कलाकंद,लड्डुक डिब्बा लय 
मित्र,सकल परिवार.
कागज़ के छिपी-गिलास,
थर्मस  में 
भरि-भरि चाय,
दुई-चारि टा शतरंजी वा
चादर लिय 
बिछाए.
ई सबहक दिन 
बीति गेल 
आब  
 'मॉल' आर 'मल्टीप्लेक्स',
दही-चुड़ा छथि मुंह 
बिधुऔने,
घर -घर बैसल 
'कॉर्न-फ्लेक्स'.
'कमपिऊटर' पीठी पर 
लदने
मुठ्ठी में 'मोबाइल',
अपने में छथि 
सब केओ बाझल 
यैह नबका 
'स्टाइल'
 

16 comments:

  1. मुठ्ठी में 'मोबाइल',
    अपने में छथि
    सब केओ बाझल
    यैह नबका
    'स्टाइल'
    वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. वाह ... आंचलिक भाषा का गज़ब का जादू ...

    ReplyDelete
  3. आपका अंदाज़ (स्टाइल ) भी बहुत सुन्दर है... लाजवाब

    ReplyDelete
  4. कतय स्वतंत्रता-दिवस गेल,
    झंडा क गीत
    कतय सकुचायेल,
    दृश्य सोहनगर,देखबैया
    छथि
    कतय नुकाएल.

    लाजवाब

    ReplyDelete
  5. प्रस्तुतीकरण का अंदाज अच्छा लगा,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    ReplyDelete
  6. अपनी भाषा स्वतंत्रता को ढूंढती...

    ReplyDelete
  7. वाकई में स्टाईल है !

    ReplyDelete
  8. पुरान समय सब बिसराये गेल छई. अब पन्द्रह अगस्त खाली छुट्टी के दिन, जाके मॉल में मज़ा करे के. दही चिउड़ा आ निमकी खजूर के दिन गेलई, पाकल खाना बजार से ला के दिन बीतायल, बस इहे जिनगी है. बड़ा निमन रचना, अहाँ के बधाई.

    ReplyDelete
  9. आपका यह ढंग दिल को भाया। आप मैथिली इतना अच्छा लिखती हैं हर्षित हुआ। एक मैथिलीभाषी होने के बावजूद लिख नहीं पाता अच्छी मैथिली - फिर भी इतना तो लिख ही दूंगा कि -- बड नीक लागल। प्रस्तुत कवित में प्रयुक्त बिम्ब आ प्रतीक एकदम अगल-बगल के लागल और सीधे दिल से जूटि गेल।

    ReplyDelete
  10. कविता भावोन्नत आ विचार-प्रधान अछि। शब्द आ बिम्ब दुहु मुखर अछि...! व्यंग्यार्थ विचारोत्तेजक...! मैथिल कलमक धार देखि मोन बड्ड प्रसन्न भेल...!

    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  11. मैथिली तो हमें आती नहीं है पर कुछ -कुछ
    समझ आ रहा है ,की पुराने तरीके बदल
    चुके हैं अब नए -नए तरीके आ चुके हैं |
    अब समाज आधुनिक हो गया है |

    ReplyDelete
  12. बड नीक कविता अछि. अहाँ के बधाई.

    ReplyDelete
  13. नवका स्टाइल का वर्णन जबरदस्त । क्या ये छत्तीसगढी भाषा है ?

    ReplyDelete
  14. Link exchange is nothing else except it is just placing the other person's blog link on your page at proper place and other person will also do same for you.
    Check out my web blog :: the homepage

    ReplyDelete
  15. Can I simply just say what a comfort to find someone that truly knows what they are
    talking about over the internet. You definitely realize how
    to bring a problem to light and make it important. More and more people need to check this
    out and understand this side of your story. I was surprised
    that you are not more popular since you definitely have the gift.


    My weblog; Cam To Cam

    ReplyDelete