Wednesday, July 11, 2012

सकते में है जामुन.......कि

सकते में है 
जामुन.......कि 
ये कैसा बदलाव है,
ये कैसी आंधी है,
ये कौन सा युग है......
हम तो अपने-आप ही 
रस से 
भर-भरकर 
चूते थे,
बारिश में इतराते,
पकते,
टपकते थे,
आते-जाते मुसाफिर 
हमें 
उठाते,खाते,
मुस्कुराते,
निकल जाते थे
और 
बैगनी रंग का जीभ 
एक-दूसरे को 
दिखा,
खिलखिलाते थे.
कितना सुहाना लगता था......
सबका मन लुभाना,
सब पर छा जाना,
सबका दुलार पाना......फिर 
ये क्या हुआ 
जो हम,
बड़े एहतियात से
चुने जाते हैं,
गिने जाते हैं,
'लेवल'लगे डब्बों में 
'पैक' किये जाते हैं.....और 
जाने कहाँ-कहाँ 
भेजे जाते हैं.
छप जाता है 
डब्बों पर,
'प्राईस-टैग' के साथ 
हमारी तस्वीर......और 
वीरान 
हो जाती है,
वर्षों से
सड़कों के किनारे 
उगाई हुई,
भाईचारे कि खेती.
गुमशुदा........हम
कुलबुलाते हैं,
छटपटाते  हैं,
'कहीं का नहीं छोड़ा',
बुदबुदाते  हैं.
सुना है......... सड़कों पर 
लोगों से,
देश तरक्की कर रहा है,
आगे बढ़ रहा है,
ये 'प्रगति' है......लेकिन 
जनाब,
एक अदना सा 
व्यक्तित्वधारी मैं 
भयभीत हूँ......
मेरी तो सरासर 
'दुर्गति' है.
गुज़ारिश है आपसे.....
हुकूमत के 
ऊँचे तबकों में,
एक छोटी सी सिफारिश 
कर दीजियेगा,
मैं प्रजा का सेवक हूँ,
दिल्ली की सड़कों पर 
खुले-आम 
रहने की, इज़ाजत
दिला दीजियेगा.

 

21 comments:

  1. सार्थकता लिए सटीक प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  2. जामुन के बहाने और भी न जाने किस किस की दुखती रग पर आपने हाथ रख दिया है..बहुत अच्छा लगा यह जामुनी लहजा !

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. बहुत सटीक .......पढके बचपन का वो सादा रहन सहन बहुत याद आया ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सार्थक रचना ...

    ReplyDelete
  6. आधुनिकता की होड़ में हमारा बहुत कुछ खो गया है, छिन गया है हमसे...

    ReplyDelete
  7. दिल्ली की सड़कों पर आम लोगों के लिए जगह नहीं है, वहां खास लोगों की भीड़ है।

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी रचना...डब्बों में पैक ज़िन्दगी|

    ReplyDelete
  9. जामुन के द्वारा बहुत गहरे एहसास को व्यक्त किया है आपने. सामान्य जीवन चाहे मनुष्य का हो या प्रकृति का सब कुछ बदला जा रहा.

    ReplyDelete
  10. मृदुला जी प्रणाम स्वीकार करें ,आपने पंडित नेहरू जी के संस्मरण वे जामुन के पेड़ की याद दिला दी .
    आपका लेख या कहूँ रचना प्रकृति की पीड़ा को दरसाता है .

    ReplyDelete
  11. Bahut badaltee hai zindagee...kahan se kahan le jaatee hai....

    ReplyDelete
  12. jamun to ek mook vastu hai...jab bolne wale insaan par bhi tag lag jate hain aur vairayeti me pesh kiye jate hain to bechare jamun ki kya aukat.

    kalyug he janab.

    sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  13. प्रकृति के अपने साथ बदसलूकी सहन नहीं करती , उसका दुष्परिणाम हमारे सामने कभी न कभी आ ही जाता है ...
    बहुत बढ़िया प्रेरक रचना

    ReplyDelete
  14. Very nice...

    ReplyDelete
  15. बंधन किसे पसंद आया है ...
    सुंदर प्रभावी कविता ..
    एक सांकेतिक रचना ....
    सादर !!

    ReplyDelete
  16. सब कुछ बाजार के हवाले हो रहा है । सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  17. आज बाजारवाद ने सब कुछ कितना बदल दिया है..बहुत सटीक और प्रभावी अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  18. दिल्ली की सड़कों पर
    खुले-आम
    रहने की, इज़ाजत
    दिला दीजियेगा.

    बाजारवाद से बचे तब तो ।
    बहुत सुंदर अलग सी प्रस्तुति ।

    ReplyDelete