Monday, November 25, 2013

सोलवां साल.......यानि.......

सोलवां साल.......यानि 
एक जादू ,एक आकर्षण,
एक निमंत्रण.....
कुछ अलग सा मिजाज़........
तो मेरी बच्ची,
अब करनी होगी तुम्हें 
अपने ही
कदमों की पहरेदारी 
समझदारी से.....कि
दुनियादारी में 
प्रलोभन कम नहीं.
सशक्त मन से, 
उज्जवल भविष्य का 
आह्वान करना,
शालीनता से,विनम्रता से,
प्रभु का 
ध्यान करना,
कहना.......
तुम्हें विद्या,बुद्धि,विवेक से 
आभूषित के दें,
कहना........
तुम्हें धैर्य से,प्रेम से,विश्वास से 
आलोकित कर दें.........

9 comments:

  1. Umra ke is ajeeb mod par maata-pita ki sachchi seekh.. Ek uchit maargdarahan!!

    ReplyDelete
  2. सीख देती सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  3. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  4. aapki ye rachna har betiyon ko padhni chahiye..............aakhir ham blog ke madhyam se jagrukta la hi sakte hai...............

    ReplyDelete
  5. कितना सुन्दर सोचा है .....!!!

    ReplyDelete
  6. शानदार और जानदार कविता

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर कविता...

    ReplyDelete