Wednesday, January 15, 2014

कि.....मैं तुम्हें......

मैं अपनी पलकों पर 
तुम्हारे 
इशारों के जाल 
बुनता हूँ......
तुम्हारे 
ख्वाबों की उड़ान में 
साथ-साथ 
उड़ता हूँ.......
सहेजता हूँ तुम्हारी 
मिठास,
मन के कोने-कोने में
कि.....मैं तुम्हें
बेहद प्यार करता हूँ..........

8 comments:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति .....मन आह्लादित कर रही है ....

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (17.01.2014) को " सपनों को मत रोको (चर्चा -1495)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

    ReplyDelete
  3. पुरुष मन की प्रेमाभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन मौसम है शायराना - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  5. वाह बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  6. प्रीत का सुंदर इजहार

    ReplyDelete