Thursday, January 23, 2014

भूल जाती हूँ मैं........

भूल जाती हूँ मैं ....... कि 
झूलती है तुम्हारी 
कमर पर,
तुम्हारे घर की 
चाभियाँ......और 
तुम,
बड़ी हो गयी हो....... 

6 comments:

  1. छोटी छोटी प्यारी प्यारी की रचनाएं लेकर आई हैं कितने सुंदर भाव।

    ReplyDelete
  2. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  3. कम शब्दों मे ज्यादा बात, सुंदर...

    ReplyDelete