Sunday, March 28, 2010

द्रवित ह्रदय .........

द्रवित ह्रदय के
भाव-भीने
स्वरों से ,
आभार मानती हूँ
उन अपनों का ,
जो
बुरे समय में
किनारा
कर लेते हैं .
टूटे हुए मन के
टूटे-फूटे
शब्दों से,
उपकार मानती हूँ
उन परायों का,
जो
बुरे समय में
साथ
हो लेते हैं,
फिर नमन करती हूँ
दोनों को
कि
बाल्यावस्था से ,
अपने -पराये की
जिस परिभाषा को
लेकर
चलती रही........
अभी -अभी तक
जिस विश्वास पर
विश्वास
करती रही......
एक भ्रम था
बता दिया ,
नए समय का
नया पाठ
पढ़ा दिया और
मेरी मान्यताओं को,
संशोधन की
ज़रुरत है ,
सप्रसंग समझा दिया .

15 comments:

  1. zindagi yun hi naye path sikhati hai,
    bahut badhiyaa

    ReplyDelete
  2. hamara seekhana jindagee se ant tak chalata rahega.......
    sunder rachana.......

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर,मृदुला जी.

    नई पुरानी हलचल से यहाँ आया हूँ.

    आपकी द्रवित हृदय ने द्रवित कर दिया है.

    आप मेरे ब्लॉग से नाराज है क्या?

    ReplyDelete
  4. एक भ्रम था
    बता दिया ,
    नए समय का
    नया पाठ
    पढ़ा दिया और
    मेरी मान्यताओं को,
    संशोधन की
    ज़रुरत है ,

    यह पाठ पढ़ना भी ज़रुरी है .

    ReplyDelete
  5. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. नए समय का
    नया पाठ
    पढ़ा दिया और
    मेरी मान्यताओं को,
    संशोधन की
    ज़रुरत है ,
    सप्रसंग समझा दिया

    बहुत सुन्दर रचना....
    सादर...

    ReplyDelete
  7. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 14-06-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में .... ये धुआँ सा कहाँ से उठता है .

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  11. मेरी मान्यताओं को,
    संशोधन की
    ज़रुरत है ,
    सप्रसंग समझा दिया .

    ReplyDelete
  12. अनुभूत सत्य को उजागर करती रचना .

    ReplyDelete
  13. ज़िंदगी की राहों में वक्त से अच्छा गुरु कौन....

    सुंदर रचना...
    सादर।

    ReplyDelete