Tuesday, December 21, 2010

मरुभूमि कितना.........

'मरुभूमि
कितना सूना लगता है.......'
अनायास ही
निकल गया था
मुंह से ,
जब 'आबू-धाबी' के 
ऊपर से
'सूडान' जाने के लिए,
जहाज़ उड़ा था
और
नीचे 'सहारा डेज़र्ट'
उदास खड़ा था.
न कहीं पानी,
न कहीं हरियाली,
एकदम सन्नाटा
एकदम ख़ाली.
बात हो गयी थी
आई-गई,
बीस-बाईस साल में
मैं भी
भूल गई
पर
आज सुबह,
बाल झाड़ते हुए,
अवाक्
रह गई थी.........
'कितनी समानता है
मेरी आँखों में',
ख़ामोशी
रूककर
कह गई थी .

47 comments:

  1. उफ़! दर्द ही दर्द भर दिया आखिर मे।

    ReplyDelete
  2. 0ff kya likh gayee aap.......
    marmik samvedana.......

    ReplyDelete
  3. आपको पता है मरुभूमि में अब उपवन खिलने लगे हैं, मैं दो-तीन साल पहले ही गयी थी, आपकी आँखों में भी सागर लहरा रहा है आत्मा का !

    ReplyDelete
  4. आज सुबह,
    बाल झाड़ते हुए,
    अवाक्
    रह गई थी.........
    'कितनी समानता है
    मेरी आँखों में',
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी .

    मृदुला जी वक़्त की बात करूँ या आपकी लेखनी की ....
    औरत रेगिस्तान की ख़ामोशी ही तो है .....

    ReplyDelete
  5. ओह , आँखों में मरुस्थल का दिखना ...उदास कर गया ..

    ReplyDelete
  6. नीचे 'सहारा डेज़र्ट'
    उदास खड़ा था.
    बाल झाड़ते हुए,
    अवाक्
    रह गई थी.........
    'कितनी समानता है
    मेरी आँखों में',...
    मन को व्यथित करते भाव

    ReplyDelete
  7. mridula ji main bhi awaak rah gaya...kaise aapne registaan ki khamoshi ko sabdo me samet liya:)

    ReplyDelete
  8. ... bhaavpoorn rachanaa ... prasanshaneey !!!

    ReplyDelete
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (23/12/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  10. मृदुला जी , बहुत ही गहरे मर्म भरे है इस कविता में ........बहुत खूब
    .
    इंतजार

    ReplyDelete
  11. आज सुबह,
    बाल झाड़ते हुए,
    अवाक्
    रह गई थी.........
    'कितनी समानता है
    मेरी आँखों में',
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी .
    ...yun hi jindagi ke raah chalte chalte apne tak ko kitna bhool sa jaata hai insaan..
    ..bahut kuchh bolti aapki rachna swayam ko sochne par majboor karti hai...

    ReplyDelete
  12. आह! बेहद खुबसूरत ...... aapko padhna sukhad lag raha hai ... aapko badhai

    ReplyDelete
  13. आपकी कविता ऐसे लगी जैसे मरुस्थल में नखलिस्तान . आभार .

    ReplyDelete
  14. 'कितनी समानता है
    मेरी आँखों में',
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी

    सोचने पर विवश करती कविता.

    ReplyDelete
  15. Kya gazab likhtee hain aap! Wah!

    ReplyDelete
  16. मेरी आँखों में',
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी .
    अतिसुन्दर भावाव्यक्ति , बधाई

    ReplyDelete
  17. मृदुला जी!
    अबू धाबी के ऊपर सहारा रेगिस्तान?? भूगोल के जानने वाले और मेरे जैसे वहाँ से होकर लौटे लोग बता देनेगे कि यह तथ्यपरक भूल है..हाँ बिम्बों के हिसाब से बात ठीक है.
    कविता में आपने जिस दर्द का वर्णन किया है वह स्पष्ट उभर कर आया है सामने..कम शब्दों में गहरा अर्थ लिए एक कविता!!

    ReplyDelete
  18. इक दर्द भरी कविता.. अच्छी लगी धन्यवाद

    ReplyDelete
  19. शुभ कामनाओं की कुछ हरियाली हमारी तरफ़ से आपको सादर प्रेषित ।

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर, बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  21. वाकई ..सुन्दर अभिव्यक्ति .....

    ReplyDelete
  22. ADARNIYA MRIDULAJI,
    RACHNA KI AAKHIRI PANKTIYON NE KAVITA KA KAYAPALAT HI KAR DIYA..
    ATI SUNDAR!

    ReplyDelete
  23. गहन भावों की भावुक अभिव्यक्ति...वाह !!!

    मन मोह लिया...

    ReplyDelete
  24. mujhe bhi khamosh rahna hi sweekar hai in khamosh aankhon ke sang ...

    ReplyDelete
  25. वाह क्या बात है ... आपने बहुत सुन्दर तरीके से मन के रिक्तता के बारे में कहा है ...

    ReplyDelete
  26. Great. U have Superbly compared eyes to the desert.

    ReplyDelete
  27. भावपूर्ण रचना...
    रेत और आँखों की समानता भेदती हुई सी...!!!

    ReplyDelete
  28. सोचने पर विवश करती कविता.

    ReplyDelete
  29. नमस्कार जी
    बहुत खूबसूरती से लिखा है.

    ReplyDelete
  30. your few words carry so much emotion

    ReplyDelete
  31. गहन भावों का संगम है इन शब्‍दों में ....।

    ReplyDelete
  32. गहरी उदासी लिए कविता अचानक सभी सुखों पर प्रश्न चिन्ह लगा देती है ! आभार !

    ReplyDelete
  33. very touching . . . you have expressed your emotions so truly through these words . . .

    ReplyDelete
  34. कितनी समानता है
    मेरी आँखों में
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी

    कविता का मर्म अत्यंत गहन है।
    आपके चिंतन को नमन।

    ReplyDelete
  35. क्रिसमस की शांति उल्लास और मेलप्रेम के
    आशीषमय उजास से
    आलोकित हो जीवन की हर दिशा
    क्रिसमस के आनंद से सुवासित हो
    जीवन का हर पथ.

    आपको सपरिवार क्रिसमस की ढेरों शुभ कामनाएं

    सादर
    डोरोथी

    ReplyDelete
  36. कविता के भाव पक्ष ने मोहित कर दिया ........और हम हो गए आपके 75 वें समर्थक .....शुभकामनायें

    ReplyDelete
  37. इस बिम्ब का बहुत सुन्दर प्रयोग है ।

    ReplyDelete
  38. सुन्दर भावपूर्ण रचना!!

    ReplyDelete
  39. मृदुला जी,

    वाह.....क्या बेहतरीन समानता है......बहुत खूब....सुन्दर पोस्ट|

    ReplyDelete
  40. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना कल मंगलवार 28 -12 -2010
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..


    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  41. व्यथा की बेहतरीन अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  42. आज सुबह,
    बाल झाड़ते हुए,
    अवाक्
    रह गई थी.........
    'कितनी समानता है
    मेरी आँखों में',
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी .

    बहुत ह्रदयस्पर्शी अभिव्यक्ति.मन को उद्वेलित कर देती है.

    ReplyDelete
  43. आँखों की ख़ामोशी से सहारा रेगिस्तान की याद ...
    बस उदास कर गयी ....

    ReplyDelete
  44. आज सुबह,
    बाल झाड़ते हुए,
    अवाक्
    रह गई थी.........
    'कितनी समानता है
    मेरी आँखों में',
    ख़ामोशी
    रूककर
    कह गई थी .

    सोचने को विवश करती मर्मस्पर्शी एवं खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete