Saturday, December 4, 2010

फैशन शो में.........

औंधे मुंह गिर गयी शर्म,
पल्लू बाहर
रोता था,
ध्वस्त हया की
सिसकी पर 
जब ,
'कैट-वॉक' होता था.
कुछ ऐसे,कुछ वैसे
कपड़ों की
ताकत से , शायद........
मंच हिला था,
लज्जा की दीवारों पर,
कितना कीचड़
फैला था.
गीत की लय पर
वहां,
आँखों की पुतली
बोलती थी ,
धज्जियां
बेवाक फैशन की
चमक-कर,
डोलती थी,
कतरनें
फैशन-परस्ती से
बदन पर,
सज रहीं थीं,
थान-दर-थानों के
कपड़े
सरसराकर,
चल रहे थे .
पीढ़ियों की सीढ़ियों पर
रूढ़ियाँ थीं
सर झुकाए,
रेशमी पैबंद पर
ख़ामोश थीं,
धमनी-शिराएँ.
बत्तियों का था धुआं
और
शोख़ियों का
शोर था,
रोशनी के दायरों में,
चल रहा 
एक होड़ था .
पारदर्शी था कोई,
बेखौफ़ था
उनका जुनून,
झिलमिलाती सलवटों पर,
रात ने
खोया सुकून.
थी कोई आंधी चली
या कि कोई,
तूफाँ रूका था,
देखता कोई ,कोई
आँखें
झुकाने में लगा था .
नए फैशन की
नुमायश पर
नया ,
नग़मा बजा था,
आँचल का
अभिमान कुचलकर,
'हॉल'
तालियों से गूँजा था.

39 comments:

  1. ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    ReplyDelete
  2. आदरणीय मृदुला जी
    नमस्कार
    नए फैशन की
    नुमायश पर
    नया ,
    नग़मा बजा था,
    आँचल का
    अभिमान कुचलकर,
    'हॉल'
    तालियों से गूँजा था.
    .................. बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  3. लाजबाब रचना और उतने ही सुन्दर ‘शब्द संयोजन।

    ReplyDelete
  4. लगता है आप भी उन ऑंखें झुकाने वालों में ही शामिल होंगी, फैशन के नाम पर जो अभद्रतापूर्ण कार्यक्रम होते हैं वे किसी भी शालीन व्यक्ति को खलेंगे ही , एक सशक्त रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  5. नए फैशन की
    नुमायश पर
    नया ,
    नग़मा बजा था,
    आँचल का
    अभिमान कुचलकर,
    'हॉल'
    तालियों से गूँजा था.

    बहुत सशक्त रचना..आभार

    ReplyDelete
  6. मृदुला जीः
    रैम्प पर खुले आम होता है चीर हरण
    क्या स्वेच्छा से करती है द्रौपदी इसका वरण
    चलती है एक ज़िंदा लाश की तरह
    आँखों में पथराए भाव,
    होठों पर मौत की ख़ामोशी
    बाल बिखरे बेतरह..
    कम से कम कपड़े
    और वार्डरोब मैलफ़ंक्शन!
    सच कहा है आपने
    पीढियों और परम्पराओं की कुचली कोख पर
    हो रहा है यह नग्न नृत्य
    और कृष्ण चुपचाप देख रहा है यह कृत्य!!

    ReplyDelete
  7. बेहद उम्दा रचना आज के सच को दर्शाती हुई।

    ReplyDelete
  8. आपने तो सारा पोल खोल कर रख दिया है। एक बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  9. नए फैशन की
    नुमायश पर
    नया ,
    नग़मा बजा था,
    आँचल का
    अभिमान कुचलकर,
    'हॉल'
    तालियों से गूँजा था.
    Aisahee chalta aa raha hai...chalta hee rahega! Ham aap sharm saar ho aankhen jhuka lenge,tamasha khuleaam chaltaa hee rahega.

    ReplyDelete
  10. पहली बार आपकी रचनाएं पढ़ीं.
    फैसन शो का चित्रण अच्छा लगा.
    आपका हार्दिक धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. आदरणीय मृदुला जी ....
    थी कोई आंधी चली
    या कि कोई,
    तूफाँ रूका था,
    देखता कोई ,कोई
    आँखें
    झुकाने में लगा था .
    नए फैशन की
    नुमायश पर
    नया ,
    नग़मा बजा था
    सच्चाई को आमने लाकर रख दिया आपने ...बेहद प्रभावी पंक्तियाँ ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  12. फैशन के नाम पर जो हो रहा है उस पर सटीक रचना ..

    ReplyDelete
  13. वाह सुन्दर रचना है! मुझे काका हाथरसी की वो पंक्तियां याद आ रही हैं:

    ’यदि अंग प्रदर्शन ही फ़ैशन है!
    तो हम बहुत अभागे है,
    जानवर इस दौड में,
    हम से बहुत आगे है!’

    ReplyDelete
  14. फैशन पर गहरा कटाक्ष . शब्द मोती की माला में लग रहा है पिरोया हुआ . सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  15. बहुत ही शानदार रचना.... सुंदर और सार्थक...

    ReplyDelete
  16. अद्भुत व्यंग्य
    सच पूछिए तो हाल में वो तालियाँ किसिस तमाचे से कम नहीं, बस फर्क समझने का है.....
    हम उन तमाचों को तालिय समझते हैं....

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर मृदुला जी .अनोखा अंदाज ..खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  18. पर कौन कररहा है यह सब, क्यों कबतक--?? सोचने का मुद्दा तो यह है---सिर्फ़ कहने का नही...

    ReplyDelete
  19. " ध्वस्त हया की
    सिसकी पर......... "
    वाह! बहुत सटीक लिखा है ...
    सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  20. बहुत सटीक चित्रण. लाजवाब, अच्छा विश्लेषण. हालाँकि मेरे बच्चे इसी फील्ड में हैं

    ReplyDelete
  21. 'aanchal ka
    abhiman kuchalkar
    hall
    taliyon se goonja tha'
    fashion ke naam par ho rahe angpradarshan par marmik kavita...

    ReplyDelete
  22. मृदुला जी,

    बधाई आपको इस रचना पर ......ऐसा लिखने का माद्दा बहुत कम लोग रखते हैं......बहुत बेबाक और तीखा व्यंग्य है आपकी इस रचना में.....वाह बहुत सुन्दर|

    ReplyDelete
  23. फैशन शो को साख्शात दिखा दिया शब्दों के माध्यम से आपने ... इसमें फैली गंदगी और हलके एहसास को लोग मज़े ले कर देखते हैं .. ये आज का दौर है ..

    ReplyDelete
  24. क्या खूबसूरती से भाव प्रकट किये हैं आपने.
    बहुत ही अच्छा लगा पढ़ के..

    आभार

    ReplyDelete
  25. कविता थी कि कड़ी बात कोई
    दिल को जा चुभी थी
    इन शब्दों की नुकीली धार
    मेरे सीने में जा घुसी थी....
    शब्द तेरे थे बेशक मृदला
    मगर बात सबके पते की थी....!!

    ReplyDelete
  26. अच्छी कविता ! शायद आज हम इसे आधुनिकता मानते हैं ! मैं आप के ब्लोग को फ़ोलो कर रह हूं १ कृप्या मेरे ब्लोग को फ़ोलो करें !

    ReplyDelete
  27. आप तो बहुत सुन्दर लिखती हैं...बधाई.
    ______________
    'पाखी की दुनिया' में छोटी बहना के साथ मस्ती और मेरी नई ड्रेस

    ReplyDelete
  28. फैशन शो... किसी की चाहत अलग, किसी की अलग । लेकिन इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना की ऐसे फैशन शो में बार-बार की पुनरावृत्ति इसकी आकस्मिकता पर प्रश्नचिन्ह अवश्य लगाती है.
    मेरी नई पोस्ट 'भ्रष्टाचार पर सशक्त प्रहार' पर आपके सार्थक विचारों की प्रतिक्षा रहेगी...
    www.najariya.blogspot.com नजरिया

    ReplyDelete
  29. आँचल का
    अभिमान कुचलकर,
    'हॉल'
    तालियों से गूँजा था.

    फैशन शो की धज्जियां उडाती आपकी कविता तालियों की हकदार है .....!!

    ReplyDelete
  30. सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  31. very nice...fashion show ka vrnan karte hue ek rochak kavita....thanks a lot for this excellent post...

    ReplyDelete
  32. बढ़िया लिखती हो ...भविष्य में पढने के लिए अनुसरण कर रहा हूँ ...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  33. सही कहा है आपने...फैशन और आधुनिकता के नाम पर इंसान क्या कुछ नहीं कर डालता..आधुनिक विचारधारा अलग चीज़ है और उसका अन्धानुकरण अलग चीज़...आज का व्यक्ति अन्धानुकरण तो करता है पर विचारधारा संकुचित हो जाती है जब उसका प्रतिफल मिलने लगता है तब...हम सब शायद उनमे से ही एक हैं....सुंदर चित्रण....

    सुंदर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete