Friday, June 3, 2011

नीम का एक पेड़.......

नीम का एक पेड़,
बाहर के ओसारे से
लगे तो
गर्मियों के दिन में
उसकी, छाँव में
बैठा करेगें,
कड़ी होगी धूप,
जाड़ों में जो सर पर,
नीम की डालों से हम,
पर्दा करेगें.
पतझड़ों में सूखकर
पीले हुए पत्ते,
ओसारे-'लान' पर जब
आ बिछेगें,
सरसराहट सी उठेगी,
हवा सरकायेगी जब-तब,
मर्मरी आवाज
आयेगी,
जो पत्तों पर चलेगें,
हर वक्त कलरव
कोटरों से
पक्षियों का,
किसलयों के रंग पर
कविता करेगें,
नीम का एक पेड़,
बाहर के ओसारे से
लगे तो
हम सुबह से शाम तक,
मौसम की,
रखवाली करेगें ।

33 comments:

  1. नीम का एक पेड़,
    बाहर के ओसारे से
    लगे तो
    हम सुबह से शाम तक,
    मौसम की,
    रखवाली करेगें ।

    गुणकारी नीम का पेड़ और ...
    कोमल ..मरमरी एहसास .....!!
    कितना सुंदर मिश्रण है ..!!

    http://anupamassukrity.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. प्रकृति को समर्पित मौसम के प्रति आपकी अभिव्यक्ति उन खोये पलों की याद दिलाती हैं जिन्हें शायद हमारे बच्चे कभी देख नहीं पाए!!
    बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  3. नीम का पेड़ ... कितनी मधुर कल्पना ... आज ओसारे ही कहाँ रह गए हैं ... हम जैसे लोंग तो फ्लैटनुमा अधर में लटके हुए हैं ..

    ReplyDelete
  4. अति सुंदर प्रस्तुति, धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. अति सुन्दर.......रचना
    प्रवाहित रहे यह सतत भाव-धारा।
    जिसे आपने इंटरनेट पर उतारा॥
    ====================
    ’व्यंग्य’ उस पर्दे को हटाता है जिसके पीछे भ्रष्टाचार आराम फरमा रहा होता है।
    =====================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  6. कोटरों से
    पक्षियों का,
    किसलयों के रंग पर
    कविता करेगें,
    नीम का एक पेड़,
    बाहर के ओसारे से
    लगे तो
    हम सुबह से शाम तक,
    मौसम की,
    रखवाली करेगें
    neem ke ped uttam kalpna bhav bahut hi sunder hai kavita uttam hai
    rachana

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  8. हवा सरकायेगी जब-तब,
    मर्मरी आवाज
    आयेगी,
    जो पत्तों पर चलेगें,
    हर वक्त कलरव
    कोटरों से
    पक्षियों का,
    किसलयों के रंग पर
    कविता करेगें,

    एक विशुद्ध प्राकृतिक रचना संसार बधाई

    ReplyDelete
  9. सरसराहट सी उठेगी,
    हवा सरकायेगी जब-तब,
    मर्मरी आवाज
    आयेगी,
    जो पत्तों पर चलेगें,
    prakriti ke kan kan se aahladit rachna

    ReplyDelete
  10. इस रचना की संवेदना और शिल्पगत सौंदर्य मन को भाव विह्वल कर गए हैं।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर कविता, जीता जगता नीम का एक पेड़ मन के आंगन में उगा दिया और मौसम...पंछी...धूप..सबका आनंद आ गया ! पर्यावरण दिवस पर आपको बधाई!

    ReplyDelete
  12. आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. सरसराहट सी उठेगी,
    हवा सरकायेगी जब-तब,
    मर्मरी आवाज
    आयेगी,
    जो पत्तों पर चलेगें,

    बहुत ही अच्‍छी रचना ।

    ReplyDelete
  14. bahoot khoob
    ghar ke aangn men niv lga hai ,isilie iske fayde janta hoon
    sunder rachna ke lie bdhaai

    ReplyDelete
  15. बहुत बढिया, क्या बात है

    ReplyDelete
  16. एक नीम का पेड़...कितनी आशाएं...

    ReplyDelete
  17. कंक्रीट के जंगलों में एक नीम का पेड़ ...कितना सुखद एहसास ।

    ReplyDelete
  18. सरसराहट सी उठेगी,
    हवा सरकायेगी जब-तब,
    मर्मरी आवाज
    आयेगी,
    जो पत्तों पर चलेगें,
    खूबसूरत अहसास,दिल को छू लेने वाली रचना , बधाई

    ReplyDelete
  19. नीम का एक पेड़,
    बाहर के ओसारे से
    लगे तो
    हम सुबह से शाम तक,
    मौसम की,
    रखवाली करेगें ।
    Bahut pyara-sa khayal hai!

    ReplyDelete
  20. बहुत प्यारा लिखा है आपने ! सुन्दर लेखन के लिए बधाई !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - स्त्री अज्ञानी ?

    ReplyDelete
  21. .

    बचपन में जहाँ घर था , पीछे एक 'हाता' था , जिसमें बहुत से नीम के पेड़ थे । आपने याद दिला दी । बिलकुल वैसा ही महसूस हुआ जैसा आपने लिखा है।

    Nostalgia is overpowering me.

    .

    ReplyDelete
  22. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  23. आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके पोस्ट की है हलचल...जानिये आपका कौन सा पुराना या नया पोस्ट है यहाँ...........

    "नयी पुरानी हलचल"

    ReplyDelete
  24. प्रकृति को समर्पित मौसम..बहुत ख़ूबसूरत..एक नीम का पेड़...कितनी आशाएं...

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर कविता.........
    कई दिनों व्यस्त होने के कारण ब्लॉग पर नहीं आ सका

    ReplyDelete
  26. सही बात कही है आपने.पर अफ़सोस बेहतर शहरीकरण (?) की हमारी चाह का शिकार ये जीवन के वाहक वृक्ष हो रहे हैं.कभी नीम के पेड़ की विशेषताओं को बच्चा बच्चा जनता था आज किताबों में झांकना पड़ता है.
    एक बेहद अच्छी रचना.
    ---------------------------
    आपका स्वागत है "नयी पुरानी हलचल" पर...यहाँ आपके ब्लॉग की किसी पोस्ट की कल होगी हलचल...
    नयी-पुरानी हलचल

    धन्यवाद सहित सादर

    ReplyDelete
  27. Neem men mithas gholati rachana....

    ReplyDelete
  28. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी (कोई पुरानी या नयी ) प्रस्तुति मंगलवार 14 - 06 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच- ५० ..चर्चामंच

    ReplyDelete
  29. नीम के पेंड तो अब गाँव की कल्पना में रह गए हैं. यहाँ शहर में नीम का पेंड क्या , किसी का भी पेंड गाहे बहागे ही दिखता हैं.
    आपने गाँव की याद दिला दी
    -------------------------------------
    क्या मानवता भी क्षेत्रवादी होती है ?

    बाबा का अनशन टुटा !

    ReplyDelete
  30. बहुत पहले जब सैकडों चैनल न थे तब एक सीरियल आया करता था नीम का पेड
    नीम के पत्तों पर कविता करेंगे बशर्ते कि पेड लग जाये। जब पेड लग जायेगा तब गर्मियों में क्या होगा ठंड में क्या होगा सुन्दर कल्पना । बेचारे बच्चों ने न ओसारा देखा न पेड

    ReplyDelete