Monday, May 23, 2011

संस्कारों के धज्जियों की धूल......

संस्कारों के धज्जियों की धूल,
जब उड़-उड़ कर
पड़ती है.....आँखों में,
चुभन होती है,
जलन होती है,
पानी-पानी जैसा
लगने लगता है.......तब,
मूंदकर चुप-चाप,
कपड़े का बनाकर
भाप,
सेक लेते हैं, अपने आप
निरुपाय
माँ-बाप......
एक कृत्रिम हंसी से
सुसज्जित,
उनके चेहरे के पीछे का
दर्द,
परदे में रह जाता है..... 
और 
आधुनिकता के प्रकोप से 
लहलहाते हुए 
शोर में......
उनका हर दुःख 
अदृश्य हो जाता है........
बताइए ,
आपको कभी दीखता है?
और 
मैं परेशान हूँ 
कि
मुझे क्यों दीखता है? 

41 comments:

  1. आधुनिकता के शिकार केवल माँ बाप ही नहीं होते आज की युवा पीढ़ी भी इसका खामियाजा भुगत रही है,आधार हीन हो गयी है जिंदगी, लेकिन हमें केवल मूक दर्शक बन कर नहीं रहना है, दुःख की कीमत पर भी सत्य की मशाल जलाये रखनी है.

    ReplyDelete
  2. आपको कभी दीखता है?
    और
    मैं परेशान हूँ
    कि
    मुझे क्यों दीखता है?


    बहुत अच्छा लिखा है मृदुला जी ..
    दीखता तो मुझे भी है और परेशान भी करता है ....
    रास्ते खोजते भी है कैसे इस परेशानी से निकला जाये ...!!
    सार्थक लेखन के लिए बधाई ..!!

    ReplyDelete
  3. आधुनिकता के प्रकोप से
    लहलहाते हुए
    शोर में,
    उनका हर दुःख ,
    अदृश्य
    हो जाता है........

    सार्थक प्रश्न करती रचना ... अनिता जी कि बात विचारणीय है

    ReplyDelete
  4. आधुनिकता का प्रकोप हमारी पीढ़ी को अधिक दीखता है और उससे होने वाले प्रभावों से आँख में पानी और फिर उसको सुखाने के लिए कपड़े को मुँह से लगा कर भाप बना कर सेंकने के अतिरिक्त कोई और रास्ता भी नहीं है. हम पिछड़ों की श्रेणी में आ चुके है ये पीढ़ी अंतराल है या कुछ और.

    ReplyDelete
  5. अच्छी लगी रचना !

    ReplyDelete
  6. sahi hai aajkal sanskaaron ki dhajjiyan hi to ud rahi hai aadhunikta ke naam par.aur hum asamarth nai peedhi ki soch ke aage jhukte jaa rahe hain.
    bahut achche vishay par likhne ke liye badhaai.

    ReplyDelete
  7. संस्कारों के
    धज्जियों की
    धूल,
    जब उड़-उड़ कर,
    पड़ती है
    आँखों में,
    चुभन होती है,
    जलन होती है,
    पानी-पानी जैसा
    लगने लगता है.......
    kitna kuch is pani me hai

    ReplyDelete
  8. आपको कभी दीखता है?
    और
    मैं परेशान हूँ
    कि
    मुझे क्यों दीखता है?

    अनीता जी ने भी ठीक कहा ,रेखा जी ने उसे आगे बढाया , हमें भी दीखता है या यूं कहू सबको दीखता है पर न देखने का ठीकरा परिष्ठितियो पर फोड़ने के हम माहिर जो है . सार्थक प्रश्न उठIती सुन्दर कविता,साधना जी बधाई

    ReplyDelete
  9. आदरणीय मृदुला जी
    नमस्कार !
    चेहरे के
    पीछे का दर्द,
    परदे में
    रह जाता है
    और
    आधुनिकता के प्रकोप से
    लहलहाते हुए
    शोर में,
    उनका हर दुःख ,
    अदृश्य
    हो जाता है....
    सार्थक प्रश्न करती रचना बहुत अच्छा लिखा है

    ReplyDelete
  10. संस्कारों की धज्जियां उड़ाता आज का समाज ...बहुत सार्थक और विचारणीय रचना

    ReplyDelete
  11. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 24 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    ReplyDelete
  12. एक कृत्रिम हंसी से
    सुसज्जित,
    उनके
    चेहरे के
    पीछे का दर्द,
    परदे में
    रह जाता है
    sahi kaha aapne .sochne par majbur karti kavita
    badhai
    rachana

    ReplyDelete
  13. कटु सत्य....

    बखूबी वर्णित....

    ReplyDelete
  14. beautiful presentation of current scenario of blind westernisation prevailing in our society.
    Its a debatable issue and must be brought out.

    I think ppl should modernise their thoughts along with their apparels and living style.

    ReplyDelete
  15. आधुनिकता के प्रकोप से
    लहलहाते हुए
    शोर में,
    उनका हर दुःख ,
    अदृश्य
    हो जाता है........

    बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  16. बताइए ,
    आपको कभी दीखता है?
    और
    मैं परेशान हूँ
    कि
    मुझे क्यों दीखता है?

    क्योंकि संस्कार रूपी चश्मा हर किसी के पास कहाँ होता है……………बेहद उम्दा ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर और लाजवाब रचना! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  18. बहुत ही बेहतरीन और लाजवाब रचना
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. सार्थक प्रश्न .. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  20. beautifully written Mridula ji .

    ReplyDelete
  21. आपको कभी दीखता है?
    और
    मैं परेशान हूँ
    कि
    मुझे क्यों दीखता है?
    ati uttam , swaal to laazwaab hai

    ReplyDelete
  22. संस्कारों के
    धज्जियों की
    धूल,
    जब उड़-उड़ कर,
    पड़ती है
    आँखों में,
    चुभन होती है,
    जलन होती है,

    Bahut sunder rachna!

    ReplyDelete
  23. संस्कारों के
    धज्जियों की
    धूल,
    जब उड़-उड़ कर,
    पड़ती है
    आँखों में,
    चुभन होती है,
    जलन होती है,
    पानी-पानी जैसा
    लगने लगता है.......
    आज के समाज का कटु सत्य, सार्थक प्रश्न, बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  24. हर रोज दिखती है
    इसी प्रकार चिंदी चिंदी होती परम्पराएं,
    कलुषित होता गौरव
    माँ बाप के चेहरे पे सजी कागज़ी फूलों की हंसी
    चुप हो जाता हूँ
    सहम जाता हूँ
    सोचता हूँ
    मन ही मन प्रार्थना करता हूँ
    एक बेटी का बाप हूँ ना!!
    मृदुला जी, बहुत ही भाव पूर्ण रचना!!

    ReplyDelete
  25. हम तथाकथित आधुनिक हो गए हैं तो संस्कार और परंपराएं तो चुभेंगी ही, हां आंखे बंद कर मनमानी करेण तो शायद न चुभे।

    ReplyDelete
  26. कटु सत्य, सार्थक प्रश्न, बेहतरीन प्रस्तुति ....

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुंदर मृदुला जी । माँ बाप अपना दर्द आँसुओं में बहाने की कोशिश करते हैं पर बहता कहां है वह, टीस बन कर चेहरे पे छा जाता है तभी आप जैसे हम जैसे कुछ लोगों को नजर आ जाता है ।

    ReplyDelete
  28. सुसंस्कारों के क्रमिक ह्रास की भावपूर्ण अभिव्यक्ति..........विचारणीय रचना

    ReplyDelete
  29. सटीक प्रश्न.बहुत अच्छा लेखन

    ReplyDelete
  30. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. आपको कभी दीखता है?
    और
    मैं परेशान हूँ
    कि
    मुझे क्यों दीखता है?

    सार्थक प्रश्न, बेहतरीन प्रस्तुति ....
    बहुत अच्छा लिखा है मृदुला जी ..

    ReplyDelete
  32. बहुत ही खूब !
    मेरी नयी पोस्ट पर भी आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    ReplyDelete
  33. संस्कारों की धज्जियां उड़ाता आज का समाज
    ye sahi hai koi bhi apne ghar mai khush nhi hai bas bagal mai ladki kya gul khila rahi hai iske bare mai jyada nazar rakhi jati hai..
    mai kabhi apne parents k khilaf nhi gayi..iske baad bhi samaj ne mujh par dabaav banaya..ladki mai chahaye jitne gun ho samaz tang karta hai.

    ReplyDelete
  34. Aisa dekhane ke liye bhi najar chahiye....varna sab andhe hokar hi je lete hain....

    ReplyDelete
  35. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  36. बेहतरीन प्रस्तुति,सार्थक प्रश्न....

    ReplyDelete
  37. सार्थक सुगढ़ दिल को छूती रचना....
    सादर.

    ReplyDelete
  38. सार्थक प्रश्न करती रचना ..बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete