Monday, May 16, 2011

यह कोई लेन-देन का कारोबार नहीं........

यह कोई लेन-देन का
कारोबार नहीं,
नफ़ा-नुकसान 
इसका आधार नहीं, 
निःस्वार्थ प्रेम
माँ के आँचल का
खज़ाना है,
यह स्नेह का 
बंधन है,
व्यापार नहीं.
मेरे दोस्त.......
कभी उँगलियों पर 
मत गिनना,
इसकी 
तौहिनी होती है,
यह ममता की 
अनुभूति है,
बस......
मन में सोती है.
और पिता........
हर उम्र में पिता 
बच्चे के 
मन से कहीं ज़्यादा,
दिमाग में ठहरता है
और दिमाग 
मन की तरह,
अँधा  
नहीं होता.
विश्लेषण करता रहता है,
सोचता रहता है,
खोजता रहता है
और 
इस प्रक्रिया में,
पिता से प्यार 
बढ़ता रहता है....... 


37 comments:

  1. बहुत अच्छा सन्देश देती कविता.

    सादर

    ReplyDelete
  2. हमेशा की तरह बेहतरीन भावप्रधान कविता, पारिवारिक संस्कारों को भावप्रवण तरीके से निखारती, मृदुला जी बधाई, सामयिक साहित्यक रचना के लिए.

    ReplyDelete
  3. भावना प्रधान सुन्दर रचना ...लेकिन भले ही माँ का प्यार अंधा होता हो मुझे लगता है कि हर बच्चा माँ से ज्यादा प्यार करता है :):) या यह भी हो सकता है कि मेरी बात अंधे प्यार की ही निशानी हो :):

    ReplyDelete
  4. पिता से प्यार बढ़ते रहने की गुंजाइश शेष रहती है पर माँ से तो अधिकतम पहले से ही होता है...बधाई इस भावपूर्ण रचना के लिये !

    ReplyDelete
  5. dil se likhee paripakv soch kee behtareen abhivykti.

    ReplyDelete
  6. सचिन ने क्रिकेट में रिकार्ड तोड़ा, अन्ना हजारे ने अनशन तोड़ा, प्रदर्शन-कारियों रेलवे-ट्रैक तोड़ा, विकास-प्राधिकरण ने झुग्गी झोपड़ियों को तोड़ा। हमारे नेताओं ने जनता का दिल तोड़ा। अनेक लोगों ने लक्ष्य तक पहुँचने के लिए अपने-अपने तरीके से बहुत कुछ तोड़ा है। तोड़ा-तोड़ी की परंपरा हमारे देश में सदियों पुरानी है। आपने कुछ तोड़ा नहीं अपितु माँ-पिता की ममता से उनकी संतानों को जोड़ा है। आपने साहित्यकार का हृदय पाया है। इस प्रेम, करुणा और ममत्व को बनाए रखिए। भद्रजनों के जीवन की यही पतवार है। आपकी रचना का यही सार है। साधुवाद!
    =====================
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  7. सुन्दर संदेश देती सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  8. प्यार तो माता पिता दोनो से ही होता है ... सुंदर भाव संजोए अहीं रचना में ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर भावपूर्ण और सार्थक रचना...

    ReplyDelete
  10. सारगर्भित तुलना प्रस्तुत की है इन पंक्तिओं में।

    प्रेम तो दिल और दिमाग दोनो से होता है
    दिल अंधा नहीं आस्थावान होता है।
    दिमाग़ व्यापारी नहीं विवेकवान होता है

    ReplyDelete
  11. भावपूर्ण तथा सारगर्भित रचना है.

    ReplyDelete
  12. मन को छू लेने वाली रचना।

    ReplyDelete
  13. कई बार ऐसा लिख देते हो की समझने के लिए टैम नहीं होता .....क्या करें ?
    हम तो बाद में फिर पढेंगे ! शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  14. यह बहुत अधिक नहीं समझ सका ....फिर भी बच्चे का हक़ दोनों पर होना चाहिए ...

    निस्संदेह पिता , माँ के स्नेह और प्यार का मुकाबला नहीं कर सकता और हर बच्चा देर सबेर इसे जानता है !

    बाय द वे, आप कह क्या रही हैं ?? ( नाराज नहीं होना ) !

    आपके अच्छे दिल के लिए हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  15. बस यही रिश्ते हैं जिनमें लेनदेन नहीं होता लेकिन अब तो उसका कोई मोल भी नहीं समझता है. माँ ने जो किया उसका फर्ज था और पिता ने जो किया उसका फर्ज था. बेटे भी अपने फर्ज निभा रहे हैं. फिर क्या लेना और क्या देना?
    यही शेष रह गया है.

    ReplyDelete
  16. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    ReplyDelete
  17. मेरे दोस्त.......
    कभी उँगलियों पर
    मत गिनना,
    इसकी
    तौहिनी होती है,
    यह ममता की
    अनुभूति है,..mamtamayee pyar ko nahi tola ja sakta, nahi ungliyon mein gina jaa sakta hai... bahut badiya bhavpurn rachna

    ReplyDelete
  18. जीवन में ये दोनों ही संतान को सच्चे अर्थ में इंसान बनाते हैं

    यदि सफलतापूर्वक बना पाए तो....!!

    एक भाव प्रधान तो दूसरा विवेक प्रधान है

    और जिन्दगी में इन दोनों का बैलेंस बहुत जरूरी है !

    बहुत सुन्दर...!

    ReplyDelete
  19. maatr prem pitrprem dono ho aadhar hai ek bchche ko safal banane ke liye.pyar to dono barabar karte hain.fark itna hai ki maa ka pyaar bachche ke liye poorntah bhaavnatmak hota hai jab ki pita ka pyaar bhavnaaon ke saath vyavharik bhi hota hai.yahi aapki is kavita ka bhavarth hai.bahut achcha likha hai .badhaai.

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.धन्यवाद

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर भावपूर्ण और सार्थक रचना...
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  22. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!

    ReplyDelete
  23. ऐ अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया,
    मां ने आंखे खोल दी घर में उजाला हो गया।

    भावपूर्ण रचना, बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  24. BAHUT SUNDER BHAV BHARI RACHNA
    MATA KE SNEH KA KOI SANI NAHI
    BADHAI
    RACHANA

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर भावपूर्ण और सार्थक रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  26. क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


    अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
    हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

    हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

    ReplyDelete
  27. भावपूर्ण शव्‍द चित्र.

    ReplyDelete
  28. waah mridula ji , pita se pyar badhta rahta hai , bahut khoob

    ReplyDelete
  29. यह कोई लेन-देन का
    कारोबार नहीं,
    नफ़ा-नुकसान
    इसका आधार नहीं,
    निःस्वार्थ प्रेम
    माँ के आँचल का
    खज़ाना है,
    यह स्नेह का
    बंधन है,
    व्यापार नहीं.
    मेरे दोस्त.......
    wah ! niswaarth kya prem to sirf prem hota hai
    jahaan swarth ho wahaan prem ka kya kaam
    prem ki achchhi paribhaasha bataai hai aapne
    badhaai sweekar karen

    ReplyDelete
  30. टिप्पणी देकर प्रोत्साहित करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!

    ReplyDelete
  31. सुंदर अभिव्यक्ति , बधाई ....

    ReplyDelete
  32. दिल और दिमाग कि लड़ाई चलती रहती है...दिमाग वाले दुनिया जीतते हैं और दिल वाले इंसान...इसीलिए शायद माँ की ममता के आगे बाप की बापता हार जाती है...

    ReplyDelete
  33. Shabd bhi kam par jaate hain...man ke liye...

    ReplyDelete
  34. "नीम की डालों से हम,
    पर्दा करेगें.
    पतझड़ों में सूखकर
    पीले हुए पत्ते,
    ओसारे-'लान' पर जब
    आ बिछेगें,
    सरसराहट सी उठेगी,
    हवा सरकायेगी जब-तब,
    मर्मरी आवाज"

    आपकी सभी कविताओं में बहुत गहन अवलोकन है । एक से एक बढकर हैं सारी कविताएं । बधाई और धन्यवाद ।

    ReplyDelete