Wednesday, May 11, 2011

अलसुबह हम मानसर की झील में........

परिस्थितियां बदल जातीं हैं  लेकिन कवितायेँ,
जब जिस मनःस्थिति में,जिस परिवेश में लिखी जातीं हैं,
उसी रूप में जिंदा रह जातीं हैं........उनके भाव कभी नहीं बदलते ,
यही सोचकर आज यहाँ एक पुरानी कविता उस समय की ........
जब आसमान नीला होता था ,पानी का रंग पन्ने जैसा ,रूबी जैसा मन रहता था.....

अलसुबह हम 
मानसर की झील में 
कल्लोल कर ,
गिरि-खंड के ओटों में 
छुप,गातें सुखाकर,
उत्तंग पर्वत श्रिंखलों पर                    
बैठकर
बातें करेंगे,
बोलो प्रिय ,
कब हम चलेंगे ....
शाम को
पर्वत की पगडण्डी से
होकर,
दूर तक जाकर
मुड़ेंगे,
वापसी में
और
हम,हर मोड़ पर 
थक कर ज़रा
रुक कर  चलेंगे,
उस रात को हम,
चांदनी में,
भींगकर ,जगकर-जगाकर,
ओस की बूँदें 
हथेली में भरेंगे,
अलसुबह फिर .....
मानसर की झील में
कल्लोल कर,
गिरि-खंड के ओटों में 
छुप,गातें सुखाकर,
उत्तंग पर्वत श्रिंखलों पर
बैठकर
बातें करेंगे,
बोलो प्रिय,
कब हम चलेंगे......




34 comments:

  1. श्रृंगार की, प्रेम रंग में रँगी बहुत ही मनमोहक रचना ...
    मन के कोमल भाव और कल्पनाओं की सुन्दरता ....सहज प्रवाहयुत सुन्दर अभिव्यक्ति ...दर्शनीय है

    ReplyDelete
  2. स्मृतियों और कल्पनाओं के अदभुत संयोजन के बीच संस्कृत निष्ठ भाषा के माध्यम से एक मन मोहक दृश्य प्रस्तुत करती कविता !

    ReplyDelete
  3. गिरि-खंड के ओटों में
    छुप,गातें सुखाकर,
    उत्तंग पर्वत श्रीखलों पर
    बैठकर
    बातें करेंगे,
    बोलो प्रिय,
    कब हम चलेंगे......
    haan to kab jaa rahi hain?

    ReplyDelete
  4. उस रात को हम,
    चांदनी में,
    भींगकर ,जगकर-जगाकर,
    ओस की बूँदें
    हथेली में भरेंगे,
    अलसुबह फिर .....
    मन के कोमल भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही मनभावन रचना...भावों और शब्दों का अद्भुत सामंजस्य..आभार

    ReplyDelete
  6. KAVITA ke bhavoin ka shringaar aapne sundar shabdoin se kiya hai....mann ko chu gayee...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव्।

    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (12-5-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. अति कोमल अनुभूति से मन को पुलकित करने वाली रचना की प्रस्तुति के लिए-बधाई।
    =======================
    मैंने जब कभी श्रंगार रस की रचनाओं को लिखने का प्रयास किया वे गड़बड़ा गईं। पुरानी कापी में दर्ज एक मुक्तक साझा कर रहा हूँ।
    =======================
    प्यार का मौसम सुहाना हूँ।
    रोज मिलने का बहाना चाहता हूँ॥
    कई दिन से नल में था,पानी नहीं-
    आज आया है, नहाना चाहता हूँ॥
    -----------------------
    सद्भावी -डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  9. अलसुबह फिर .....
    मानसर की झील में....

    kitne pyare se shabd hain..:)

    ReplyDelete
  10. अलसुबह फिर .....
    मानसर की झील में
    कल्लोल कर,
    गिरि-खंड के ओटों में
    छुप,गातें सुखाकर,
    उत्तंग पर्वत श्रीखलों पर
    बैठकर
    बातें करेंगे,
    बोलो प्रिय,
    कब हम चलेंगे......

    Bahut hi sundar shabdon ka chayan , behatreen rachna.

    .

    ReplyDelete
  11. बढ़िया रचना है , आपको हार्दिक शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  12. kalpnaaon ke saagar me doobkar likhi is kavita ko salam.bahut sukomal rochak rachna.

    ReplyDelete
  13. बहुत ही मनभावन रचना

    ReplyDelete
  14. अहसास का खूबसूरत बयान...

    ReplyDelete
  15. प्रेम से सराबोर भावपूर्ण कविता...

    ReplyDelete
  16. कल्पनाओं मे ही आदमी कहाँ से कहाँ पहुँच जाता है यथार्थ मे कब पहुँच पाता है। अच्छी भावमय रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  17. सुंदर रचना, धन्यवाद

    ReplyDelete
  18. बहुत उम्दा रचना.

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर ...मन के भावों को जस का तस लिख दिया है ..

    ReplyDelete
  20. वाह प्रेममयी मर्मस्पर्शी मनुहार जो मन को छू गयी...बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  21. कोमल भावों की सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  22. neh ki sunder prastuti .bahut hi sajeev likha hai .baeth ke baten jaroor jarenge .
    rachana

    ReplyDelete
  23. जीवन की आपा-धापी में यह एहसास भी कितना सुकून देता है ! वाकई एक ह्रदय स्पर्शी कविता . आभार.

    ReplyDelete
  24. ओस की बूँदें
    हथेली में भरेंगे,
    अलसुबह फिर .....

    भावमय रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  25. sunder rachna likhi hai mridula ji

    ReplyDelete
  26. man ke bhavon ko kavita ki lines me bahut sundar dhang se bandha hai aapne.

    ReplyDelete
  27. क्या बात है, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  29. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  30. jagmagate heeron kee kaniyaon ko fir chunenge
    मानसर की झील में
    कल्लोल कर,
    गिरि-खंड के ओटों में
    छुप,गातें सुखाकर,
    उत्तंग पर्वत श्रीखलों पर
    बैठकर
    बातें करेंगे,
    बोलो प्रिय,
    कब हम चलेंगे......

    Wakaee kab ja raheen hain . Behad sunder prastuti.

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    ReplyDelete
  32. aapke blog per aaj pehli baar aaye hai sabhi kavitayein ucch koti ki hai

    ReplyDelete