Monday, October 10, 2011

तुम्हारे बिगडैल प्यार ज़िद्दी दुलार........


ये कविता मैं  अपनी जिठानी को संबोधित करते हुए लिखी हूँ  ......... इतनी सारी सच्चाई एक साथ
सुनकर वो बहुत भावुक हो गयीं ...............
कितनी बार सुनतीं हैं .......फिर सुनती हैं .........औरों को भी सुनाने के लिए कहती हैं और  सुनते-सुनते  कभी रो देतीं हैं तो कभी हंस देती हैं...........अपनी डायरी में भी रख ली हैं.......

तुम्हारे बिगडैल प्यार 
ज़िद्दी दुलार
और
गुस्से से लबालब
आँखों के पीछे से,
उमड़ता हुआ
ममता का सैलाब,
सर से पांव तक,
भिगो देता है ........
पिघलते हुए शीशे की 
तरह,
तुम्हारे गर्म मिजाज़ की 
आँच में ,
मीठे झरने की 
मदमस्त फुहार, 
सुनायी पड़ती है.........
डरपोक मन की 
परिधि से 
निकलकर, जब
एकाएक 
चाबुक उठा लेती हो,
आत्मीयता में नटखटपन 
मिलाकर,बस 
होश उड़ा देती हो,
दिल्ली ,बम्बई ,गोवा में 
उधम मचाती हो,
पटना में बैठकर, 
अमेरिका को हिलाती हो.....
चाय नहीं पीऊँ
तो शरबत मंगाती हो,
मिठाई को ना कहूं
तो 
प्रसाद कहकर 
खिलाती हो......
भावनाओं के जहाज से,
क्रोध के कबूतर 
उड़ाती हो,
फूलों का रस 
बिछाकर,
पलकों पर बिठाती हो,
जादू की छड़ी
घुमाकर,
मन से बांध लेती हो,
भगवान कृष्ण की 
बहन हो,
स्नेह का बंधन 
डाल देती हो.........
                                                                                                                                                                                                                  
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           


42 comments:

  1. वाह ...यहां तो आपने भावनाओं का अनूठा संगम करा दिया है ..बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढ़िया।
    ----
    कल 12/10/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, बधाई स्वीकारें /

    ReplyDelete
  4. रिश्ते ऐसे ही गर्माहट में पकते हैं... सोंधे होते हैं.. सुन्दर कविता.

    ReplyDelete
  5. वाह ! आपकी जिठानी के बारे में पढ़कर जो चित्र बनता है बहुत मोहक है... गुस्से में भी जो प्यार छिपाए हों उन्हें हमारा भी प्रणाम!

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब ! बहुत मनमोहक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति, बधाई

    ReplyDelete
  8. ab aise post kisiko dedicate karoge to dil ko chhuyega hi....:)
    wah !!

    ReplyDelete
  9. इस प्यार को पाने के लिए लोग तप करते हैं ... मैं तो नतमस्तक हो गई इस ममता के आगे

    ReplyDelete
  10. बहुत ही खुबसूरत प्रस्तुति ||
    बधाई महोदया ||

    ReplyDelete
  11. बहुत ही भावपूर्ण रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  12. जादू की छड़ी
    घुमाकर,
    मन से बांध लेती हो,
    भगवान कृष्ण की
    बहन हो,
    स्नेह का बंधन
    डाल देती हो......
    क्या बात है मृदुला जी. बहुत ही सुन्दर कविता है. ऐसी कविता कौन न सहेजना चाहेगा?

    ReplyDelete
  13. kitne log is pyaar ko samajh paate hain....??
    hats of to you and to her....

    ***punam***

    bas yun...hi..
    tumhare liye...
    aalekh...

    ReplyDelete
  14. aap dono ka pyaar yunhi bana rahe....

    ReplyDelete
  15. स्नेह से बड़ा कोई नहीं .....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  16. bahut hi shandaar prastuti..ye mamta hi to hai jo rishton ko ek atoot bandhan se jodti hai..sadar bahdayee aaur amantran ke sath

    ReplyDelete
  17. rachna aur rishte ki khoobsurti padhkar man ko bahut achchha laga. itne pyare rishte virle hin kisi ko mil paate hain. kavita aur rishte yun hin sahaj man se jiyen, meri shubhkaamnaa hai.

    ReplyDelete
  18. bhut hi kismatwali hain jo aisi jethani mili
    sbko nhi milti.thanks.

    ReplyDelete
  19. bahut hi sunder prastuti ......... pyar se bhari , sab aisi nahi hoti

    ReplyDelete
  20. पिघलते हुए शीशे की
    तरह,
    तुम्हारे गर्म मिजाज़ की
    आँच में ,
    मीठे झरने की
    मदमस्त फुहार,
    सुनायी पड़ती है.........


    Very nice.MKTVFILMS

    ReplyDelete
  21. बहुत बढ़िया |
    बधाई ||

    ReplyDelete
  22. सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति.

    ReplyDelete
  23. ऐसा प्रेम तो सभी को मिले, बहुत श्रेष्‍ठ अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  24. मनमोहक प्रस्तुति ......

    ReplyDelete
  25. तुम्हारे गर्म मिजाज़ की
    आँच में ,
    मीठे झरने की
    मदमस्त फुहार,
    सुनायी पड़ती है.........

    काश मै आपकी जिठानी होती ........................ नही वे मुझसे कहीं अचछी हैं बता ही रही है ये कविता पर इच्छा पर तो कोई रोक नही है न ।

    ReplyDelete
  26. bahno sa pyar hai takrar hai dular hai sab kuchh kamal hai aapki kavita pdh kar man tak tript ho jati hoon

    rachana

    ReplyDelete
  27. आत्मीय संबंधों का भावात्मक दस्तावेज़ है यह भाव कविता .हम भी सहभावित हुए .याद आगया चाव से जुड़ा यह गीत -सासुजी ने भावे बाजरो ,सुसराजी ने हरियो पोदीना ,लुडजारे हरियो पोदीना ....संबंधों की आंच अब चुकने लगी है कहीं कहीं ही मिलता है यह जुड़ाव अपनापा .

    ReplyDelete
  28. mamta aur pyar se bhigi hui bahut hi sunder rachna.
    badhai

    ReplyDelete
  29. जेठानी का स्नेह छलक पड़ रहा है इस रचना में ..खूबसूरत भावों को सहेजा है

    ReplyDelete
  30. जादू की छड़ी
    घुमाकर,
    मन से बांध लेती हो,
    भगवान कृष्ण की
    बहन हो,
    स्नेह का बंधन
    डाल देती हो.........

    वा‍ह !!

    ReplyDelete
  31. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  32. स्वाभाविक है, वो जरूर भावुक होती होंगी इसे पढ़कर । बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  33. आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है ।.दीपावली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  34. अभिव्यक्ति का यह अंदाज निराला है. आनंद आया पढ़कर.

    ReplyDelete
  35. कुछ व्यक्तिगत कारणों से पिछले 20 दिनों से ब्लॉग से दूर था
    देरी से पहुच पाया हूँ

    ReplyDelete