Monday, December 19, 2011

ये दिल्ली है........

ये दिल्ली है........
यहाँ
दिसम्बर-जनवरी की
रात में,
खुले आसमान  के नीचे,
शादियों का
निमंत्रण
आ जाता है......
सच कहूँ.......दहशत
फैला जाता है.
जाऊं-न-जाऊं की
उहापोह,
मच जाती है,
अन्तोगत्वा
हाँ-ही 
हो जाती है.
मोजे,कार्डिगन,शाल से
सुसज्जित
मैं,
बिजली की चकाचौंध को
बेधती,
देशी-विदेशी
फूलों के सौन्दर्य  पर
रीझती,
वैवाहिक समारोह में
शुभकामनाओं की पोटली
थमाकर,
परिचित चेहरों के पास
जाकर,
इधर-उधर
नज़र दौड़ाती हूँ,
देखिये.......
क्या-क्या पाती हूँ......
'बैरे' 'यूनिफ़ॉर्म' में,
लिए हुए
'ट्रे' में,
'फिश-फिंगर', 'टंगड़ी कबाब',
'मलाई-टिक्का',
'वेज' में.....
'समोसा','स्प्रिंग-रोल',
'पनीर -टिक्का',
जो अच्छी दिखे
खा लेती हूँ,
बुरी.....तो
नहीं उठाती हूँ......फिर
बीसियों रंग-रूप के
'पेय',
भ्रमित कर देते हैं,
सही-ग़लत के
चक्कर में,
अब कौन पड़े......
हम 'कोक' उठा लेते हैं.
शनैः  शनैः
भीड़ बढ़ने लगती है,
चमकने लगते हैं
हीरे -मोती -पन्ना
पुखराज,
अलग-अलग 'कौमें'
अलग-अलग
साज़.
नपे -तुले ,
कटे - छंटे,
ज़रूरत से कम
कपड़ों में,
खिलखिलाती औरतें ,
उनसे भी कम में,
मुस्कुराती
लड़कियां.
'स्टेज' पर 
'शीला की जवानी'.......का
शोर
और.....दूसरी ओर
चकित
हिरनी सी,
कूदती-फांदती
एक किशोरी,
'चुटकी जो......तूने काटी है.....
की लय पर,
हदों को
पार करने लगती है.....
मैं
खाने के लिए
उठ जाती हूँ......
भांति-भांति के
कस्बे,जाति,प्रदेश का
खाना,
स्वाद और गुणवत्ता से
भरपूर,
संतुष्ट कर देती है
और
वापसी में
एक तुकबंदी करने को,
मजबूर कर देती है........
"है नहीं कोई
तुम्हारे
घर में जो
तुमसे कहे.......
'मत पहन
अश्लील जरा से
वस्त्र,
आँखें शर्म से
औरों की
झुकती जा रही है'.....
है नहीं कोई
तुम्हारे
घर में जो
तुमसे कहे.......
'मत लगा
होठों से इतने
जाम,
आँखों से तुम्हारे
शर्म
उड़ती जा रही है'........















34 comments:

  1. excellent...
    बहुत रोचक तरीके से कितनी गंभीर बात कह डाली आपने...
    बधाई.

    ReplyDelete
  2. अच्छा कंट्रास्ट उपस्थित किया है आपने इस कविता में!! स्वतन्त्रता और आधुनिकता और अश्लीलता के मध्य बड़ी बारीक सी दीवार है.. समझाने वाले समझ गए, जो ना समझें वो अनाड़ी हैं!!

    ReplyDelete
  3. आज के भौतिक्वादी युग में मूल्यों की बात बेमानी है, आपकी बात में बहुत लम्बी कहानी है

    ReplyDelete
  4. आधुनिकता और अश्लीलता के संदर्भ को आपने बखूबी चित्रित किया है।

    ReplyDelete
  5. "है नहीं कोई
    तुम्हारे
    घर में जो
    तुमसे कहे.......
    'मत पहन
    अश्लील जरा से
    वस्त्र,
    आँखें शर्म से
    औरों की
    झुकती जा रही है'.....
    है नहीं कोई
    तुम्हारे
    घर में जो
    तुमसे कहे.......
    'मत लगा
    होठों से इतने
    जाम,
    आँखों से तुम्हारे
    शर्म
    उड़ती जा रही है'........
    Sach.....bilkul aisehee alfaaz zahan me aate hain aisee sthiti me!

    ReplyDelete
  6. क्या जानदार वर्णन किया है ...

    ReplyDelete
  7. कुछ प्रश्नों के उत्तर मांगती हैं यह पोस्ट ......

    ReplyDelete
  8. अहो ......क्या सच का तमाचा मारा है आपने ......जब तक हम अपने ही घर की बेटियों को नहीं रोकेंगे ...तब तक कुछ नहीं बदलेगा ........सार्थक लेखनी

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सच्चा सच्चा लिखा है पुराने संस्कारों को मिटाने की तो
    आज कल होड सी लगी है ...है नहीं तुम्हारे घर में ..पर घर वालों की सुनता कौन है ..जो सुनते है वो इस हाल तक नहीं पहुचते

    इतना सुन्दर लिखने के लिए बधाई

    ReplyDelete
  10. अब तो यह सब सामान्य लगता है कई बार लगता है कि हमीं पुँराने हो गए हैं यहाँ.....
    हार्दिक शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  11. जब चंडीगढ़ में पोस्टेड था तो इस तरह की कई रातें मजबूरी में गुज़ारनी पड़ी।
    कोलकाता में राहत है।

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्छी रचना .....

    ReplyDelete
  13. बदलते वक्त और संस्कारों को बखूबी चित्रित किया है आपने...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दरता से आपने दिल्ली शहर का चित्रण किया है! मैं तीन साल दिल्ली में नौकरी के दौरान थी और मुझे वो दिन याद आ गए आपकी रचना पढ़कर!

    ReplyDelete
  15. ब‍हुत अच्‍छी रचना। पता नहीं इन्‍हें सर्दी भी नहीं लगती है क्‍या?

    ReplyDelete
  16. बहुत सरलता से गम्भीर बात कह दिया...बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  17. bahut sunder aur sahi kaha hai pr shayad ab ghr me bhi koi kahna nahi
    rachana

    ReplyDelete
  18. saral sahaj shabdo me samaj ki ek sajiv tasveer samne rakh di apne.

    ReplyDelete
  19. चित्र खींच दिया आँखों के सामने आपने शादी की तड़क भड़क का ...

    ReplyDelete
  20. बहुत सहजता से बहुत कुछ कह दिया...रोचक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर रचना......

    मेरे नये पोस्ट लिए काव्यान्जलि..: महत्व .. में click करे

    ReplyDelete
  22. दिल्ली की शादियों का बहुत सटीक वर्णन किया है आपने.. वाकई क्या आजकल कोई रोकता नहीं, कोई टोकता नहीं.. बल्कि आधुनिकता के नाम पर फूहड़ता अपनाने को प्रोत्साहन ही देते हैं?

    ReplyDelete
  23. है नहीं कोई
    तुम्हारे
    घर में जो
    तुमसे कहे.......
    'मत लगा
    होठों से इतने
    जाम,
    आँखों से तुम्हारे
    शर्म
    उड़ती जा रही है'........
    ....bole bhi aaj kisse ..sunte kahan hai aaj ke bachhe...dheere-dheere sabkuch badalta ja raha hai..
    ..aaj ke yathrth ko jiwant kar diya aapne is rachna ke madhyam se....aabhar!
    ..

    ReplyDelete
  24. दिल्ली ही क्यों अब तो शायद हर शहर मे यही हाल है शादी-पार्टियों का । अच्छा चित्रण है ।

    ReplyDelete
  25. wah bahut khoob .....dehli hi kya sab jagah yahi hai alam .bahut khoob ukera hai aapne har bat ko
    badhai . navvarsh ki shubhkamnaye.

    ReplyDelete
  26. सार्थक और सामयिक पोस्ट, आभार.

    नूतन वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ मेरे ब्लॉग "meri kavitayen " पर आप सस्नेह/ सादर आमंत्रित हैं.

    ReplyDelete
  27. सुंदर अभिव्यक्ति बेहतरीन सार्थक रचना,.....
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  28. आपको सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  29. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    ReplyDelete