Wednesday, September 14, 2011

तमाम परेशानियों को........

तमाम परेशानियों को
करके नज़र-अंदाज़,
आज बस
तुम्हें ही,
याद करने को
जी चाहा है.......
तेरी यादों में
यूँ खोयी....
कब शुरू किया,
कब ख़त्म,
मुझे
कुछ याद नहीं ........ 

22 comments:

  1. यादें कभी खत्म भी हुई हैं क्या...जिसका न आदि है न अंत है वही तो असली याद है...

    ReplyDelete
  2. तुम्हें ही,
    याद करने को
    जी चाहा है.......वाह!बहुत ही सुन्दर....

    ReplyDelete
  3. तेरी यादों में
    यूँ खोयी....
    कब शुरू किया,
    कब ख़त्म,
    मुझे
    कुछ याद नहीं .......gahre khyaal khoobsurat se

    ReplyDelete
  4. Mridula Pradhan ji

    sundar rachna ke liye badhai sweekaren.
    मेरी १०० वीं पोस्ट , पर आप सादर आमंत्रित हैं

    **************

    ब्लॉग पर यह मेरी १००वीं प्रविष्टि है / अच्छा या बुरा , पहला शतक ! आपकी टिप्पणियों ने मेरा लगातार मार्गदर्शन तथा उत्साहवर्धन किया है /अपनी अब तक की " काव्य यात्रा " पर आपसे बेबाक प्रतिक्रिया की अपेक्षा करता हूँ / यदि मेरे प्रयास में कोई त्रुटियाँ हैं,तो उनसे भी अवश्य अवगत कराएं , आपका हर फैसला शिरोधार्य होगा . साभार - एस . एन . शुक्ल

    ReplyDelete
  5. गहरे भाव लिए काव्य ! बधाई

    ReplyDelete
  6. स्थिति कुछ-कुछ तेरी
    मेरे जैसी लगती है सखी..
    कब वो मेरे,मैं कब उनकी
    जान न पायी अब तक सखी...!!

    ***punam***
    bas yun...hi...

    ReplyDelete
  7. dil se nikle gahre bhaav.ati sunder.

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर मृदुला जी .. ..बेहद अर्थपूर्ण पंक्तियाँ हैं....

    ReplyDelete
  9. यादें होती ही ऐसी हैं कि उनमें डूबने के बाद इंसान उन पलों को पुनः जीने लगता है!! कम शब्दों में गहरे भाव समाहित हैं!!

    ReplyDelete
  10. ये तो अक्सर होना चाहिए .. और हर समय हो तो जीवन में बस प्रेम ही प्रेम हो ...

    ReplyDelete
  11. यादों में बड़ा दम है...उनके जाने से कुछ परेशानियाँ कम भी तो हुईं होंगी...

    ReplyDelete
  12. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है नयी-पुरानी हलचल पर 24-9-11 शनिवार को ...कृपया अनुग्रह स्वीकारें ... ज़रूर पधारें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएं ...!!

    ReplyDelete
  13. बढ़िया.पढ़कर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर याद पर बात।

    ReplyDelete