Tuesday, March 6, 2012

आपके सानिध्य में दिन-रात जो रहने लगा हूँ.......

सुन हवा का
 मंद स्वर
कुछ-कुछ थिरकने
मैं लगा हूँ,                                 
आपके सानिध्य में
दिन-रात
जो रहने लगा हूँ.
 मैं सुबह की                                                            
ओस में, मोती
उगाने
अब लगा हूँ,     
भ्रमर- दल  की                                        
गुनगुनाने  में, गुनगुनाने 
अब   लगा हूँ .                                    
खग-विहग कल्लोल से
कल्लोल
मैं करने लगा हूँ,
बादलों को थामकर
अक्सर,
ज़रा उड़ने लगा हूँ.
मैं समंदर की
लहर से, गुफ़्तगू        
करने लगा हूँ,
तितलियों के पंख पर
कुछ-कुछ
कभी
धरने लगा हूँ.
ख़्वाब की दुनिया में
मैं भी
बैठकर चलने लगा हूँ,
आपके सानिध्य में
दिन-रात
जो रहने लगा हूँ.



21 comments:

  1. कुछ लोगों का साथ हममें एक नया जोश, नई उमंग और नए रंग भर ही देता है, और असंभव भी संभव हो जाता है।

    ReplyDelete
  2. ख़्वाब की दुनिया में
    मैं भी
    बैठकर चलने लगा हूँ,
    आपके सानिध्य में
    दिन-रात
    जो रहने लगा हूँ.

    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    रंगों की बहार!
    छींटे और बौछार!!
    फुहार ही फुहार!!!
    रंगों के पर्व होलिकोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!!!!
    नमस्कार!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति |

    होली है होलो हुलस, हुल्लड़ हुन हुल्लास।
    कामयाब काया किलक, होय पूर्ण सब आस ।।

    ReplyDelete
  5. मैं सुबह की
    ओस में, मोती
    उगाने
    अब लगा हूँ,
    खग-विहग कल्लोल से
    कल्लोल
    मैं करने लगा हूँ .
    Wah!
    Holi kee anek shubh kamnayen!

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत भाव .... इन्द्रधनुष से लेकर सात रंग
    घोला है इसमें मैंने आठवां रंग - स्नेह का , दुआओं का , आशीषों का
    होली की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  7. किसी का साथ कितना कुछ कर जाता है जीवन में ... सुन्दर रचना ...आपको और परिवार में सभी को होली की शुभ कामनाएं ...

    ReplyDelete
  8. khubsurat bhaw...:)
    holi ki shubhkmanayen..

    ReplyDelete
  9. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 08 -03 -2012 को यहाँ भी है

    ..रंग की तरंग में होली की शुभकामनायें .. नयी पुरानी हलचल में .

    ReplyDelete
  10. "बादलों को थामकर
    अक्सर,
    ज़रा उड़ने लगा हूँ.
    मैं समंदर की
    लहर से, गुफ़्तगू
    करने लगा हूँ,"

    बहुत सुंदर कल्पना, भाव और अभिव्यक्‍ति !
    होली की बधाई !

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छी प्रस्तुति| होली की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  12. ये सानिध्य ही ठौर है ,गतिमय रचना..होली की शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रचना । होली की हार्दिक शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बढ़िया
    आपको होली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  15. किसी का साथ, किसी खास शख्स का.. बिलकुल ऐसा ही एहसास भर देता है मन में.. कमाल की लयात्मकता से भरी कविता!!

    ReplyDelete
  16. बादलों को थामकर
    अक्सर,
    ज़रा उड़ने लगा हूँ.
    मैं समंदर की
    लहर से, गुफ़्तगू
    करने लगा हूँ,
    तितलियों के पंख पर
    कुछ-कुछ
    कभी
    धरने लगा हूँ.

    बहुत खूबसूरत.......
    होली की शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  17. वाह-वाह
    बहूत सुकोमल से भाव ..सुंदर,प्यारी रचना...
    होली पर्व कि ढेर सारी शुभकामनाये

    ReplyDelete
  18. बहुत ही गहरे और सुन्दर भावो को रचना में सजाया है आपने.....

    ReplyDelete
  19. प्रकृति के सारे रंग आपके जीवन को महका दें | होली की हार्दिक शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  20. तितलियों के पंख पर
    कुछ-कुछ
    कभी
    धरने लगा हूँ.
    ख़्वाब की दुनिया में
    मैं भी
    बैठकर चलने लगा हूँ,
    आपके सानिध्य में
    दिन-रात
    जो रहने लगा हूँ.
    commentless beautiful HEART TOUCHING lines

    ReplyDelete