Thursday, December 27, 2012

कहते हैं माँ-बाप आजकल......

कहते हैं माँ-बाप आजकल......
बड़े होशियार हैं
मेरे बच्चे,
सारे 'पोयम्स' याद हैं इन्हें 
'बाई -हार्ट',
'चैम्पियन'हैं 'स्विमिंग' के,
हर बार 'फर्स्ट' आते हैं
'क्लास' में.
'गिटार' बजाते हैं,
'पियानो' बजाते हैं ,
करते हैं
'घुड़सवारी',
छोटी सी उम्र में
शौक रखते हैं 'ब्रिज' का
'शतरंज' का
खेल लेते हैं, खेल
सारी.
नहीं करते वे
इन बातों का ज़िक्र........
घूमते रहते हैं
नंगे पाँव, इधर-उधर
अंदर-बाहर,
जबाब देते हैं
हर बात का,
बदतमीजी से,
उधम मचाकर ,ऊपर की
मंजिल पर,
जीना मुश्किल
कर देते हैं
नीचे वालों का.
दूसरों के घर जाकर,
तोड़-फोड़ मचाकर,
कभी हर चीज छूकर
कभी पानी
गिराकर,
कर देते हैं- नाक में दम,
जहाँ कहीं जाते हैं,
घर में जो
छूने  की मनाही हो,
बाहर
उन्हें ही आज़माते हैं.
यह सब देखकर
माँ -बाप को आता है
लाड़,
रहने दो बच्चों,
प्यार से
थपथपाते हैं.
नहीं समझते औरों की
कसमसाहट
जब नई बिछी
कालीन पर,
बच्चे चाय छलकाते हैं,
वे समझते हैं
ये सारी खुराफ़ातें
बच्चों की होशियारी में,
चार चाँद लगाते  हैं.



 



13 comments:

  1. यहीं से शुरू हो जाती है व्यवहार में अराजकता आनी ... सार्थक विचार

    ReplyDelete
  2. यही सब इन्हें लापरवाह बना देता है, संस्कार घर - परिवार से ही आते हैं, बच्चे परिवार का आईना होते हैं...

    ReplyDelete
  3. प्यार से
    थपथपाते हैं.
    नहीं समझते औरों की
    कसमसाहट
    जब नई बिछी
    कालीन पर,
    बच्चे चाय छलकाते हैं,
    वे समझते हैं
    ये सारी खुराफ़ातें
    बच्चों की होशियारी में,
    चार चाँद लगाते हैं.

    माँ बाप को आइना दिखाती और सच को बयान करती पोस्ट

    ReplyDelete
  4. बस ..यही संस्कार तो लुप्त होते जा रहे हैं बच्चों में..केवल स्मार्टनेस ही बची है.

    ReplyDelete
  5. इसी उम्र में बच्चों को अच्छे संस्कारों को देने आवश्कता है,,,,,
    ========================================
    recent post : नववर्ष की बधाई

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (29-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. सच को बयान करती पोस्ट

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (30-12-2012) के चर्चा मंच-1102 (बिटिया देश को जगाकर सो गई) पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  9. मृदुला जी,
    याद है न वो कहानी जहाँ अदालत में फाँसी की सज़ा मिलने पर एक लड़का अपनी अंतिम इच्छा यह बताता है कि उसे उसकी माँ के कान में कुछ कहना है. और माँ के कान में कहने के बजाए उसके कान काट लेता है यह कहते हुए कि अगर तुमने एक पेन्सिल चुराने पर थप्पड़ मारा होता तो आज मैं फाँसी के फंदे तक नहीं पहुंचता.
    माँ बाप की आँखें खोलने वाली कविता!!

    ReplyDelete
  10. सही कहा है ...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete