Sunday, April 20, 2014

जिसकी हमें तलाश है........

नारी के उत्थान ,अधिकार और सुरक्षा  के लिए ज़रूरी है कि पुरुष को साथ लेकर चला जाये न कि उनके ख़िलाफ़ सिर्फ़ आंदोलन करते हुये...... नारी विमर्श से उठी समस्याओं का समाधान विरोध में नहीं,बात-चीत में है,यहीं से सकारात्मक वातावरण निकलेगा......जिसकी हमें तलाश है........

4 comments:

  1. एक बार पहले भी मैंने कहा था कि "नश्वर" शब्द में "वर" पुरुष मानसिकता का सूचक है जैसे प्रश्न उठाना बन्द नहीं होते, और स्वयम की श्रेष्ठता (जबकि इसकी आवश्यकता नहीं - दोनों श्रेष्ठ हैं) को सिद्ध करने के लिये बड़ी लाइन को काटने के स्थान पर छोटी लाइन को बड़ा करने का प्रयास न किया जाए, वह वातावरण नहीं बनेगा जिसकी 'उन्हें' तलाश है.

    ReplyDelete
  2. सहमत हूँ , मंगलकामनाएं !!

    ReplyDelete
  3. क्या बात है...

    ReplyDelete