Saturday, July 2, 2011

मन पंख बिना.........

जब रातों की परछाईं पर,
पूनम का चाँद
चमकता है,
उजली किरणों के साये में,
तारों का रूप
दमकता है,
उन नीलम जैसी रातों में,
जब सलिल,सुधा
बरसाती है,
शबनम के मोती झरते हैं
और
चाँद गगन पर
चलता है........
है पंखों का वरदान नहीं
फिर भी मन,
उड़-उड़ जाता है,
कभी तोड़ता है तारे
तो कभी चाँद,
छू लेता है.
जब सुबहों की अरुणाई पर,
सूरज की आँखें
खुलतीं हैं,
जब मणि-माणिक की
चादर पर,
किरणें धीरे से
चलतीं हैं,
उन सुबहों में
अलि गुंजन पर,
मधु का विनिमय
हो जाता है,
मन पंख बिना
तितली बनकर,
बागों में उड़-उड़ जाता है.
जब दिवा-स्वप्न की
लहरों पर,
मन शिथिल कभी
सो जाता है,
बेवख्त   कभी उठता है तो
बेबात 
कभी मुस्काता है,
उन हल्की सी मुस्कानों पर,
आँखों के दीये
जलते हैं,
उन लहरों की हलचल पर 
अपने ,
सपने उड़कर 
चलते हैं,
कभी बादल पर
मंडराता है,
कभी आसमान में 
गाता है
या नव विहान का
हाथ पकड़
मन पंख बिना,
जा सात समंदर पार
तुम्हें,
मिल आता है. 

52 comments:

  1. MRIDULA JI
    sargarbhit aur sach ke bahut nikat rachana ,sundar bhavon ke sath geyta bhee.
    aabhar sundar prastuti ke liye

    ReplyDelete
  2. सूरज की आँखें
    खुलतीं हैं,
    जब मणि-माणिक की
    चादर पर,
    किरणें धीरे से
    चलतीं हैं,
    उन सुबहों में
    अलि गुंजन पर,

    मनोभावों को सुन्दरता से व्यक्त करती बेहतरीन कविता. मृदुला जी आपकी इस कविता का भी कोई सानी नहीं ,भावविभोर हो गया मैं , बधाई

    ReplyDelete
  3. मन का कहना मत टालो,
    मन को पिंजरे में ना डालो,
    मन तो है इक उड़ता पंछी जितना उड़े उड़ा लो...

    ReplyDelete
  4. 'है पंखों का वरदान नहीं
    फिर भी मन
    उड़ उड़ जाता है'
    ...................उन्मुक्त गगन में मस्त विहरती कविता

    ReplyDelete
  5. Man ke sang ye tan bhi rang jata hai.bahut sundarMan ke sang ye tan bhi rang jata hai.bahut sundar

    ReplyDelete
  6. मन के भावों को खूबसूरत शब्दों में बंधा है सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. उन लहरों की हलचल पर
    अपने ,
    सपने उड़कर
    चलते हैं,
    कभी बादल पर
    मंडराता है,
    कभी आसमान में
    गाता है
    या नव विहान का
    हाथ पकड़
    मन पंख बिना,
    जा सात समंदर पार
    तुम्हें,
    मिल आता है.
    Kya rachana hai! Nazakat bhee hai aur chanchaltaa bhee bharpoor!

    ReplyDelete
  8. मन की उड़न का सुंदर वर्णन ...!!
    मीठी ,मधुर ,कोमल भावाभिव्यक्ति ...!!
    बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete
  9. खूबसूरत शब्दों में सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  10. सुंदर भावों से सजी रचना !

    ReplyDelete
  11. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त रचना! हर एक पंक्तियाँ लाजवाब लगा! बधाई!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर भावाव्यक्ति मन को पंख लगा कर उड़ने दीजिये

    ReplyDelete
  13. मन की यह उड़ान मुक्त गगन में यूं ही विचरण करता है। ताकि वह लक्ष्य पर बार-बार पहुंचे।
    मन पंख बिना,
    जा सात समंदर पार
    तुम्हें,
    मिल आता है.

    ReplyDelete
  14. एक विरही मन के मिलन की कल्पना का सुख आपने ऐसे प्रस्तुत किया है मानो एक विशाल सा कैनवास हमारे सामने है और हम कोइ खूबसूरत पेंटिंग निहार रहे हैं.. अपलक!!

    ReplyDelete
  15. मन को कोई अटकाव नही न ही कोई पंख चाहिये ये तो कहां कहां क्षण में पहुंच जाता है बहुत सुंदर शब्दों में लिखी भावभीनी कविता ।

    ReplyDelete
  16. बैरागी से मन की भावों को सुंदरता से पेश किया है ...

    ReplyDelete
  17. मन के सुन्दर भावों को सुन्दरता से व्यक्त करती बेहतरीन कविता मृदुला जी........ लाजवाब रचना

    ReplyDelete
  18. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 05 - 07 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच-- 53 ..चर्चा मंच 566

    ReplyDelete
  19. "उन सुबहों में
    अलि गुंजन पर,
    मधु का विनिमय
    हो जाता है,
    मन पंख बिना
    तितली बनकर,
    बागों में उड़-उड़ जाता है.
    जब दिवा-स्वप्न की
    लहरों पर,
    मन शिथिल कभी
    सो जाता है,
    बेवख्त कभी उठता है तो
    बेबात
    कभी मुस्काता है,"

    रचना ने नि:शब्द कर दिया...!!
    ***punam***

    ReplyDelete
  20. bahut sunder udan liye khoobsurat rachanaa.aapne
    shabdvihin kar diyaa.bahut badhaai aapko.

    ReplyDelete
  21. मन ऐसा ही तो बावरा है………बहुत सुन्दर्।

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर रचना...बधाई

    ReplyDelete
  23. मन के विभिन्न रूपों को चित्रित करती मोहक कविता !

    ReplyDelete
  24. मन के भावों की सुंदरता प्रवाहमय है!
    सुंदर!

    ReplyDelete
  25. उफ़..एक सांस में पढ़ गई. क्या प्रवाह है और क्या भाव .
    बहुत बहुत बहुत अच्छी लगी आपकी यह कविता.

    ReplyDelete
  26. वाह....
    बहा ले जाती है आपकी रचना.... इसकी लयबद्धता....
    मोहक गीत...
    सादर....

    ReplyDelete
  27. वाह!! बहुत उम्दा रचना.

    ReplyDelete
  28. अति सुंदर रचना.मानस पटल पर प्रभाव छोड़ने वाली अभिव्यक्ति
    आनन्द विश्वास

    ReplyDelete
  29. फिर भी मन,
    उड़-उड़ जाता है,
    कभी तोड़ता है तारे
    तो कभी चाँद,
    छू लेता है.
    ममस्पर्शी रचना अच्छी लगी, साधुवाद जी /

    ReplyDelete
  30. बहुत सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...
    आभार..

    ReplyDelete
  31. ham bhi kho gaye aapke in sapno ke sath sunder shabdo ki mala se maniko me.

    ReplyDelete
  32. कविता, जो आदमी के ह्रदय और मस्तिष्क दोनों को भिगो सके. आपकी कविता ने इन दौनों कामों को बड़ी सहजता के साथ किया है.
    एक अच्छी रचना है.
    आनन्द विश्वास
    अहमदाबाद.

    ReplyDelete
  33. बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द

    ReplyDelete
  34. कभी आसमान में
    गाता है
    या नव विहान का
    हाथ पकड़
    मन पंख बिना,
    जा सात समंदर पार
    तुम्हें,
    मिल आता है.
    bahut hi sunder abhivyakti
    rachana

    ReplyDelete
  35. मन भावन प्रकृति चित्रण.प्रवाह दर्शनीय. भाव मृदुल.

    ReplyDelete
  36. mridula ji
    kya likhun ,mere paas to likhne ko shabd bache hi nahi .main to waqai me nihshabd ho gai hun aapki ye anmol rachna ko padh kar .shabdo ka chayan v bhavnaao ka vishhleshhan bhut hi alag tareeke aur bahut hi badhiya kiya hai aapne .
    bahut bahut
    hardik badhai
    poonam

    ReplyDelete
  37. मन शिथिल कभी
    सो जाता है,
    बेवख्त कभी उठता है तो
    बेबात
    कभी मुस्काता है,
    उन हल्की सी मुस्कानों पर,
    आँखों के दीये
    जलते हैं,

    सुन्‍दर भावमय ||

    आभार आपका ||

    ReplyDelete
  38. सुन्दर मृदुल प्रस्तुति.
    मन की अदभुत उडान का सुन्दर दृश्य दर्शाती हुई.
    मन को हर्षाती हुई.

    अनुपम अभिव्यक्ति के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  39. बेहद खुबसूरत रचना.आभार

    ReplyDelete
  40. मृदुला जी बहुत खूबसूरत रचना आप के मन को तो पंख ही लग गए थे हम लोगों को भी उड़ा दिया साथ साथ सात समुन्दर पार -
    बधाई हो
    शुक्ल भ्रमर ५
    जब दिवा-स्वप्न की
    लहरों पर,
    मन शिथिल कभी
    सो जाता है,
    बेवख्त कभी उठता है तो
    बेबात
    कभी मुस्काता है,

    ReplyDelete
  41. bahut sundar...Mann panchhi ban sat samndr paar tume mil aata hai...waah

    ReplyDelete
  42. महोदय/ महोदया जी,
    अब आपके लिये एक मोका है आप भेजिए अपनी कोई भी रचना जो जन्मदिन या दोस्ती पर लिखी गई हो! रचना आपकी स्वरचित होना अनिवार्य है! आपकी रचना मुझे 20 जुलाई तक मिल जानी चाहिए! इसके बाद आयी हुई रचना स्वीकार नहीं की जायेगी! आप अपनी रचना हमें "यूनिकोड" फांट में ही भेंजें! आप एक से अधिक रचना भी भेजें सकते हो! रचना के साथ आप चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक(ब्लॉग लिंक), ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिख सकते है! प्रथम स्थान पर आने वाले रचनाकर को एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा! रचना का चयन "स्मस हिन्दी ब्लॉग" द्वारा किया जायेगा! जो सभी को मान्य होगा! मेरे इस पते पर अपनी रचना भेजें sonuagra0009@gmail.com या आप मेरे ब्लॉग “स्मस हिन्दी” मे टिप्पणि के रूप में भी अपनी रचना भेज सकते हो.
    हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई?
    नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया
    http://smshindi-smshindi.blogspot.com/2011/07/12.html

    ReplyDelete
  43. आज पहली बार आपके ब्लॉग में आना हुआ पर आकार दिल खुश हो गया दोस्त |
    जब दिवा-स्वप्न की
    लहरों पर,
    मन शिथिल कभी
    सो जाता है,
    बेवख्त कभी उठता है तो
    बेबात
    कभी मुस्काता है,
    उन हल्की सी मुस्कानों पर,
    आँखों के दीये
    जलते हैं,
    बहुत ही खूबसूरत रचना एक - एक शब्द बोलते हुए |

    ReplyDelete
  44. बहुत सुन्दर रचना, गुनगुना रहा हूँ!

    ReplyDelete
  45. bahut sunder rachna .......

    ReplyDelete
  46. सूरज की आँखें
    खुलतीं हैं,
    जब मणि-माणिक की
    चादर पर,
    किरणें धीरे से
    चलतीं हैं,
    उन सुबहों में
    अलि गुंजन पर,

    मनोभावों को सुन्दरता से व्यक्त करती बहुत खूबसूरत रचना ....मृदुला जी

    ReplyDelete
  47. अस्वस्थता के कारण करीब 20 दिनों से ब्लॉगजगत से दूर था
    आप तक बहुत दिनों के बाद आ सका हूँ,

    ReplyDelete