Thursday, August 4, 2011

फुटकर......

दर्द को सीने से निकल जाने दो,
चश्मे -सैलाब का तूफान
गुज़र जाने दो,
मैं तेरे माज़ी का
बहाना ही सही,
किसी हाशिये पर,
मुझे भी
ठहर जाने दो.
......................................

मुट्ठी में आकाश लिए
तुम बोलो कहाँ  उड़ोगे?
खोलो मुट्ठी फिर देखो,
सारा आकाश तुम्हारा है.
.......................................  

सितारों ने समंदर से,
कभी बोलो,
ये बोला है......
कि
परछाईं मेरी तुम पर,
मुझे अच्छी बहुत लगती.

28 comments:

  1. आदरणीय मृदुला जी
    नमस्कार !
    जितने सुंदर भाव हैं उससे बढ़कर शब्द हैं
    सभी फुटकर बहुत अच्छी लगीं ।
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.......!

    ReplyDelete
  2. मुट्ठी में आकाश लिए
    तुम बोलो कहाँ उड़ोगे?
    खोलो मुट्ठी फिर देखो,
    सारा आकाश तुम्हारा है.... safalta to haath me hai

    ReplyDelete
  3. भावमय करते शब्‍दों के साथ सुन्‍दर रचना ।

    ReplyDelete
  4. फुटकर कविता में भाव थोक में हैं.. बढ़िया क्षणिकाएं...

    ReplyDelete
  5. शब्दों और भावों का सुंदर मेल है यह पोस्ट...सभी फुटकर एक से बढ़के एक...

    ReplyDelete
  6. वाह ..बहुत बढ़िया रहे ये फुटकर ..सुन्दर क्षणिकाएँ

    ReplyDelete
  7. मुट्ठी में आकाश लिए
    तुम बोलो कहाँ उड़ोगे?
    खोलो मुट्ठी फिर देखो,
    सारा आकाश तुम्हारा है.

    बहुत सुन्दर …………शानदार रचनायें।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना , बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  9. मृदुला जी!
    आज कुछ नहीं कहने को!! बस डूब गया हूँ इन क्षणिकाओं के भावों में!!

    ReplyDelete
  10. दर्द को सीने से निकल जाने दो,
    चश्मे -सैलाब का तूफान
    गुज़र जाने दो,
    मैं तेरे माज़ी का
    बहाना ही सही,
    किसी हाशिये पर,
    मुझे भी
    ठहर जाने दो.
    Wah! Kya gazab kaa likha hai!

    ReplyDelete
  11. सारी क्षणिकाएं बेहतरीन!

    ReplyDelete
  12. भावनाओं से ओतप्रोत ,शब्दों का चयन बेहतरीन बधाई

    ReplyDelete
  13. सितारों ने समंदर से,
    कभी बोलो,
    ये बोला है......
    कि
    परछाईं मेरी तुम पर,
    मुझे अच्छी बहुत लगती.

    ekdum ghazab hai....!!! aabhar...


    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. गहरे भाव के साथ बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने ! शानदार प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  15. कभी कभी शब्द एक गूँज लेकर उभर जाते है मन के भीतर , आज आपकी छोटी सी पंक्तियों ने वो काम किया है ..

    आभार

    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    ReplyDelete
  16. मुट्ठी में आकाश लिए
    तुम बोलो कहाँ उड़ोगे?

    खोलो मुट्ठी फिर देखो,
    सारा आकाश तुम्हारा है.

    बेहद खूबसूरत भावमयी प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  17. सितारों ने समंदर से,
    कभी बोलो,
    ये बोला है......
    कि
    परछाईं मेरी तुम पर,
    मुझे अच्छी बहुत लगती.



    --बिना बोले ही इठला कर बतलाता तो होगा...:)


    सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  18. mridula ji bahut sundar likhati hain aap.....ye rachna bhi bahut sundar lagi

    ReplyDelete
  19. आदरणीय मृदुला जी
    नमस्कार !
    bahut acchi rachana !

    ReplyDelete
  20. तीनों ही बहुत सुंदर रचनाएं हैं

    ReplyDelete
  21. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  22. बढ़िया रचना के लिए शुभकामनायें

    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  23. इतनी प्यारी कविताएँ हैं इनको फुटकर ना बोलें .

    ReplyDelete
  24. अरे ये फुटकर तो कहीं से नहीं है. ये तो अपने आप में बहुत कुछ समेटे ही हुए है. लाजवाब प्रस्तुति.आपका फुटकर तो थोक से भी ज्यादा जबरदस्त है

    ReplyDelete