Thursday, April 12, 2012

सब कुछ कहने के लिए......


सब कुछ
कहने के लिए
नहीं होता,
सब कुछ
लिखने के लिए
नहीं होता,
सब कुछ
पढने के लिए
नहीं होता......
कुछ समझने-सोचने,
कुछ सहने-भोगने,
कुछ महसूस करने के लिए
होता है......और
इनका सुख
कहने,लिखने,पढने से
कहीं,      
बड़ा  है.

35 comments:

  1. बहुत सही.. किसी भावुक क्षण में लिखा है आपने

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुंदर भावनात्मक रचना,...

    मृदुला जी,..बहुत दिनों से मेरे पोस्ट पर नही आई,आइये स्वागत है

    MY RECENT POST ...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  3. महसूस करना... सर्वोत्तम!
    वाह!

    ReplyDelete
  4. रहता है कुछ मनन के लिए , रहता है कुछ सन्नाटे में विचरने के लिए ....

    ReplyDelete
  5. भावपूर्ण..
    कलमदान

    ReplyDelete
  6. मृदुला जी
    नमस्कार !!
    ....बहुत दिनों बाद ब्लॉग पर भावुक रचना पढ़ने को मिली!

    ReplyDelete
  7. बिलकुल ही सही कहा आपने!...आप से सहमत हूँ!

    ReplyDelete
  8. मृदुला जी,
    बहुत सही कहा आपने। सच तो यही है...

    भावपूर्ण व बढिया रचना के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  9. कुछ समझने-सोचने,
    कुछ सहने-भोगने,
    कुछ महसूस करने के लिए
    होता है.....!

    bas itna hi to.....

    ReplyDelete
  10. सचमुच....................
    महसूस करें तभी ना कहेंगे.....लिखेंगे और सुन पायेंगे........

    बहुत सुंदर भाव

    ReplyDelete
  11. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ...

    ReplyDelete
  12. Aap theek kah rahee hain,lekin kabhi,kabhi na kahne se bhee bada dukh hota hai!

    ReplyDelete
  13. ye sach hi kaha hai aapane aur sab yahi to karte hain. sundar dhang se prastut kee hai ye bat .

    ReplyDelete
  14. उत्कृष्ट प्रस्तुति |
    बहुत बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  15. महसूसने से ही तो आत्मसात करने की ओर बढ़ा जा सकता है।

    ReplyDelete
  16. महसूस करना ज्यादा ज़रूरी है.

    ReplyDelete
  17. जी बिलकुल सही कहा आपने सब कुछ कहने के लिए नही होता......

    ReplyDelete
  18. लेकिन जो लिखा नहीं जा सकता, उस सुख को भोगने अनुभव करने को जरूर लिखा जाना चाहिए।

    ReplyDelete
  19. सही है, महसूस करके ही लिखा जा सकता है...

    ReplyDelete
  20. वाकई ...सहमत हूँ आपसे
    शुभकामनायें आपको .

    ReplyDelete
  21. वाकई सब कुछ कहने, पढने और लिखने के लिये नही होता

    ReplyDelete
  22. वाकई...सहना-भोगना ज़रूरी है...गहरी बात कहने के लिए...

    ReplyDelete
  23. इनका सुख
    कहने,लिखने,पढने से
    कहीं,
    बड़ा है.sahi bat...

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर भाव

    ReplyDelete
  25. कुछ समझने-सोचने,
    कुछ सहने-भोगने,
    कुछ महसूस करने के लिए
    होता है....
    EK SHASHWAT SATYA.

    ReplyDelete
  26. अक्सर इसका अहसास बोलने..लिखने...पढने के बाद ही होता है ...

    ReplyDelete
  27. महसूस करने से ज्यादा प्रभावी कुछ भी नहीं, बधाई.

    ReplyDelete
  28. उत्कृष्ट प्रस्तुति,शुभकामनाएं
    , कृपया अवलोकन करे ,मेरी नई पोस्ट ''अरे तू भी बोल्ड हो गई,और मै भी''

    ReplyDelete
  29. बहुत सच कहा है...

    ReplyDelete
  30. बहुत बढ़िया प्रस्तुति, सच्चाई व्यक्त करती बेहतरीन रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    ReplyDelete