Monday, April 23, 2012

मैं तबसे सोच रही हूँ.....

बदलते रहते हैं 
ज़रा-ज़रा से शब्द,
बदलती रहती है 
बोल-चाल की भाषा,
समय,स्थान,
परिवेश के साथ 
ऐसे......कि हमें 
पता ही नहीं चलता.
अभी-अभी 
ऐसा ही हुआ.....
बड़ी तरो-ताज़ा सी 
बात है,
घर आये अतिथि से कहा-
'खाना लाती हूँ',
बेहद सादगी भरा 
जबाब आया-
'रहने दीजिये,
खाकर ही चला हूँ 
भात-दाल-तरकारी....
और 
इस भात-दाल-तरकारी जैसा 
सरल वाक्य,
मैं तबसे सोच रही हूँ.....
कब,कहाँ,कैसे 
चावल-दाल-सब्ज़ी
बनकर 
मेरे साथ रहने लगा.


24 comments:

  1. बहुत कुछ बदल गया है.............

    सहज अभिव्यक्ति...

    अनु

    ReplyDelete
  2. वक़्त के साथ ऐसे बहुत से शब्दों में परिवर्तन आ गए हैं, जिनमे अपनेपन का अहसास नहीं होता... बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  3. साधारण सी बात पर गहन सोच ...

    ReplyDelete
  4. वाह!!!!बहुत सुंदर प्रस्तुति,..प्रभावी रचना,..

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: गजल.....

    ReplyDelete
  5. इस भात-दाल-तरकारी जैसा
    सरल वाक्य,
    मैं तबसे सोच रही हूँ.....
    कब,कहाँ,कैसे
    चावल-दाल-सब्ज़ी
    बनकर
    मेरे साथ रहने लगा.
    gradually so many things are changing and we are accepting it by heart but its not near to heart.BEAUTIFUL LINES WITH FEELINGS.

    ReplyDelete
  6. जगह-जगह का फर्क है...शुद्ध हिंदी भाषी को अपुन, तेरे, मेरे, तू, तड़ाक करते भी सुन सकते हैं...

    ReplyDelete
  7. sahaj aur sunder prastuti....waqt ke saat sab badal jata hai,pata hi nahi chalta ki kab mahaul hume apne anurup dhaal leta hai.

    ReplyDelete
  8. अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  9. पर असली मिठास भात दाल तरकारी में ही थी ... फिर तो सभ्यता के मुखौटे चढ़ने लगे ...

    ReplyDelete
  10. एक अद्भुत चित्रण

    ReplyDelete
  11. वाह ...बहुत खूब ।

    कल 25/04/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... मैं तबसे सोच रही हूँ ...

    ReplyDelete
  12. वाह ! भात कब से चावल हो गया और बालक कब से बाबा हो गया पता ही नहीं चला, सुंदर कविता..

    ReplyDelete
  13. समय के बदलाव कों बारीकी से पकड़ा है ... बहुत खूब ....

    ReplyDelete
  14. बहुत नया सा ख्याल मृदुलाजी ...वाकई यही तो हमारी भाषा की सुन्दरता है ...!!!!!

    ReplyDelete
  15. आपकी रचना बहुत कुछ सिखा जाती है..

    ReplyDelete
  16. sarthak post behatrin rachna shabdon ka sundar vinyas man ko moh liya .

    ReplyDelete
  17. bhaat daal, tarkari se.....chawal daal sabji...!!! SARL SHABDON MEIN GAHRI BAAT...

    ReplyDelete
  18. बहुत प्रभावी है रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  19. यूँ ही साथ चलते चलते पता कहाँ लगता है ...
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  20. सरलता में ही सम्पन्नता है।

    ReplyDelete
  21. बहुत ही बेहतरीन रचना...

    ReplyDelete
  22. सही कहा, कब यह सरलता खो गयी कुछ पता भी नहीं चला. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति :-)

    आभार

    ReplyDelete