Saturday, January 22, 2011

उठाओ अपना सर वसंत मालती........

उठाओ अपना सर
वसंत-मालती........
समय की
विपरीत चलती हुई
धारा में,
पाँच पंखुड़ियों के
सौंदर्य से आभूषित,
कोमल
तुम्हारी काया,
धूमिल नहीं हो ,
गुलाबी से
रक्तिम होता हुआ
यह
नैसर्गिक स्वरूप,
रह सके आम्लान,
नत-मस्तक
सरल छवि पर
भारी नहीं पड़ जाये,
किसी
अभिशाप का भार
और
कर्तव्य-बोध की
शाखाओं, उप-शाखाओं में
विभाजित
सलज्ज मुस्कान,
रहे चिरंजीवी
इसीलिये,
उठाओ अपना सर
वसंत मालती........
कि
समय की
विपरीत चलती हुई
धारा
वापस लौट जाये,
परंपराओं की लीक पर
खींची हुई
तुम्हारी सीमा रेखा से ।

28 comments:

  1. समय की
    विपरीत चलती हुई
    धारा
    वापस लौट जाये,
    परंपराओं की लीक पर
    खींची हुई
    तुम्हारी सीमा रेखा से ।

    सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर सुदृढ़ सोच -
    और सुंदर अभिव्यक्ति भी -
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. श्रृंगार और ओज का सुन्दर संगम.....
    मदन के तीर में गज़ब का जोश भरा आप ने.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ और बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  5. हर एक पंक्ति सुन्दर भावो व अभिव्यक्ति से परिपूर्ण है.. बहुत खूबसूरत रचना..

    ReplyDelete
  6. उठाओ अपना सर
    वसंत मालती........
    कि
    समय की
    विपरीत चलती हुई
    धारा
    वापस लौट जाये,
    परंपराओं की लीक पर
    खींची हुई
    तुम्हारी सीमा रेखा से ।
    bahut hi sundar varnan

    ReplyDelete
  7. समय की
    विपरीत चलती हुई
    धारा
    वापस लौट जाये,
    परंपराओं की लीक पर
    खींची हुई
    तुम्हारी सीमा रेखा से ।

    बहुत भावपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  8. वापस लौट जाये,
    परंपराओं की लीक पर
    भावपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24/1/2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  10. उठाओ अपना सर
    वसंत-मालती........
    समय की
    विपरीत चलती हुई
    धारा में,

    वसंतागमन के इंतजार में काव्यमय सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  11. हमेशा की तरह सुन्दर रचना ! बधाई

    ReplyDelete
  12. गहरे विचारों से परिपूर्ण कविता।

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बढ़िया .भावपूर्ण कविता.

    ReplyDelete
  14. गहरे और ओजस्वी भावों को समेटे एक प्रवाह लिये सुंदर कविता!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर रचना जी धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. उठाओ अपना सर
    वसंत मालती........
    कि
    समय की
    विपरीत चलती हुई
    धारा
    वापस लौट जाये,
    परंपराओं की लीक पर
    खींची हुई
    तुम्हारी सीमा रेखा से ।

    waah ...bahut khoob !

    ReplyDelete
  17. मृदुला जी,

    बहुत सुन्दर रचना.....शानदार|

    ReplyDelete
  18. सुन्‍दर भावों का समावेश हर पंक्ति अनुपम ।

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  20. पाँच पंखुड़ियों के
    सौंदर्य से आभूषित,
    कोमल
    तुम्हारी काया

    aapki kavitaa ki moh maaya...
    khud ko rok na paaya!

    ReplyDelete
  21. सुंदर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  22. very nice blog dear friend bouth he aacha post hai aapka

    Pleace visit My Blog Dear Friends...
    Lyrics Mantra
    Music BOl

    ReplyDelete
  23. बहुत भावपूर्ण सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  24. सुन्दर पंक्तियाँ और बेहतरीन अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  25. ्कविता में भावनाओं के मोती जड़े हैं जो सुधि पाठकों को अपनी ओर बरबस खींच लेते हैं।
    सुधा भार्गव

    ReplyDelete
  26. मृदुला जी ने जैसे खुशियों के फूलों को संवेदना के धागे में पिरो कर काव्य माला दी है ,सचमुच सुखद और सुन्दर है .बधाई .

    ReplyDelete