Monday, November 21, 2011

एक दिन.......

एक दिन
अकेली मैं उदास,
बुलाने बैठी
आसमान में उड़ते हुए
चिड़ियों को ,
चिड़ियों ने कहा....
'रात होनेवाली है
घर जाने की
जल्दी है'.
सूरज को गोद में लिए
पश्चिम की लाली से
बोली मैं,
कुछ देर के लिए
मेरे पास
आओ तो ,
'विदा करनी है
सूरज को,
कैसे आऊंगी इस वख्त
कहो तो?'
थोड़ी ही देर बाद
आहट हुई
रात के आने की,
दरवाज़े पर ही
खड़ी-खड़ी
रोकने लगी रात को
कि
ठहर कर जाना ,
'अभी-अभी आयी हूँ '
रात ने कहा......
'मुश्किल है इन दिनों
बरसता है शबनम
सारी-सारी रात
भींगने का मौसम है'.
चाँद से बोली,
आओ सितारों के साथ
कुछ बात करें ,
चाँद ने कहा......
'घूमना है तारों के साथ
आज की रात
कैसे बात करें?'.
फूलों,भौरों ,तितलियों ने
रचाया था
उत्सव,
स्वच्छंद  विचरते हुए
मेघ-मालाओं ने कहा........
'बरसना है अभी और',
हवाओं को जाना था
खुशबू लेकर
दूर-दराज़,
नदियों,झीलों को
करनी थी अठखेलियाँ ,
और
पहाड़ पर जमी हुई
बर्फ़ ने कहा.......
'बहुत दूर है
तुम्हारा घर'.
झरनों से गिरता हुआ
कल-कल,
दूबों पर फैली
हरियाली,
ताड़,खजूर ,युक्लिप्टस
और
चिनारों ने
सुना दी
अपनी-अपनी......
और हारकर  कहा मैंने 
अपने मन से,
तुम मेरे पास रहना........
'मुझे नहीं रहना'
  झुँझलाकर बोला
मेरा अपना ही मन,
'मैं जा रहा  हूँ
बच्चों के पास 
आ जाऊँगा
मिल-मिलाकर,
'तुम यहीं रहो'.......
लेकिन
कितने दिन हो गए
मन तो
लौटा ही नहीं......
मेरे बच्चों,
तुमलोग ऐसा करना,
वापस भेज देना
समझा-बुझाकर
मेरा मन
कि
मैं यहाँ
अकेली रह गयी हूँ........



42 comments:

  1. .....आंतरिक भावनाओं से बुनी सार्थक रचना!
    यही तो है कलम का जादू बधाई

    ReplyDelete
  2. आने वाले कल को सोच कर एकबारगी काँप गयी. अकेलेपन का दर्द उभर आया.

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर और भावभीनी रचना है..

    ReplyDelete
  4. 'मुझे नहीं रहना'
    झुँझलाकर बोला
    मेरा अपना ही मन,
    'मैं जा रहा हूँ
    बच्चों के पास
    आ जाऊँगा
    मिल-मिलाकर,
    'तुम यहीं रहो'.......
    ...............
    लेकिन
    कितने दिन हो गए
    मन तो
    लौटा ही नहीं......aankhon se mann chhalak raha hai , kaise laute wo !

    ReplyDelete
  5. Wah !!! Insaan to vyast rehta hi hai...aapne to prakriti ke har sadasya ko vyast darsha diya...

    लेकिन
    कितने दिन हो गए
    मन तो
    लौटा ही नहीं..

    bahut khub

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. मन नही लौटा तो आप ही चलें न बच्चों के पास कुछ दिन बिताने... कुछ उनकी सुनने कुछ अपनी सुनाने...

    ReplyDelete
  8. किसी के पास वक्त नहीं है ..सब दौड रहे हैं ...मन भी बंटा हुआ है ..भावमयी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. मुझे नहीं रहना'
    झुँझलाकर बोला
    मेरा अपना ही मन,
    'मैं जा रहा हूँ
    बच्चों के पास
    आ जाऊँगा
    मिल-मिलाकर,
    'तुम यहीं रहो'
    लेकिन
    कितने दिन हो गए
    मन तो
    लौटा ही नहीं....
    ....अकेलेपण का दर्द अभिव्यक्त करती बहुत मर्मस्पर्शी प्रस्तुति..मन पर कहाँ नियंत्रण है...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  10. 'मुझे नहीं रहना'
    झुँझलाकर बोला
    मेरा अपना ही मन,
    'मैं जा रहा हूँ
    बच्चों के पास
    आ जाऊँगा
    मिल-मिलाकर,
    'तुम यहीं रहो'.......
    ...............
    लेकिन
    कितने दिन हो गए
    मन तो
    लौटा ही नहीं.…………अब क्या कहूँ ? आपने तो निशब्द कर दिया यथार्थ का ऐसा सटीक चित्रण करके।

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छे भावों को शब्दबद्ध किया है आपने !

    प्रस्तुत कहानी पर अपनी महत्त्वपूर्ण प्रतिक्रिया से अवगत कराएँ ।

    भावना

    ReplyDelete
  12. आपकी कई कवितायेँ पढ़ चुका हूं.. किन्तु उनमे यह कविता सर्वश्रेष्ठ है... भाव में भीग कर लिखी गई है यह कविता..

    ReplyDelete
  13. कितने दिन हो गए
    मन तो
    लौटा ही नहीं......

    सही कहा है...
    सुन्दर रचना के लिए बधाई...!!

    ReplyDelete
  14. निशब्द करती श्रेष्ठ अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  15. सुन्दर रचना यथार्थ का सटीक चित्रण , बधाई

    ReplyDelete
  16. ये आज का सच है...कोई घबराने की बात नहीं है...अभी तक हम इसके लिए तैयार नहीं थे...अब तैयार होना पड़ेगा...सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  17. Hi..

    Maine apni purani tippani hata kar nayi tippani post ki thi wo lagta hai post nahi ho payi...so kshma chahta hun...

    Man to sach main apna kaha jaata hai par hota kabhi nahi.. Main to ghar se door hi hun so man ke es bhav ko behtar samjh sakta hun..

    Sundar bhav..

    Deepak..

    ReplyDelete
  18. मुझे नहीं रहना'
    झुँझलाकर बोला
    मेरा अपना ही मन,
    'मैं जा रहा हूँ
    बच्चों के पास
    आ जाऊँगा
    मिल-मिलाकर,
    'तुम यहीं रहो'.......
    लेकिन
    कितने दिन हो गए
    मन तो
    लौटा ही नहीं......
    मेरे बच्चों,
    तुमलोग ऐसा करना,
    वापस भेज देना
    समझा-बुझाकर
    मेरा मन
    कि
    मैं यहाँ
    अकेली रह गयी हूँ........

    SUNDAR,BHAVPOORN,MANOHARI PRASTUTI.

    ReplyDelete
  19. मेरे बच्चों,
    तुमलोग ऐसा करना,
    वापस भेज देना
    समझा-बुझाकर
    मेरा मन.bhut khub.

    ReplyDelete
  20. शबनमी कविता.. भाव में डूबी!

    ReplyDelete
  21. बिम्बों का अद्भुत प्रयोग जो एकाकी की उदासी को घनत्व प्रदान करते हैं।

    ReplyDelete
  22. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने जो सराहनीय है!

    ReplyDelete
  23. भावपूर्ण रचना बधाई...
    मेरे नए पोस्ट में आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  24. एक भावपूर्ण प्रस्तुति |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  25. main yahan akeli reh gai hoon....Akelepan ke dard
    ka bhavpurn varnan.adbhut...

    ReplyDelete
  26. wah bahut hi sunder maan ko aanad se bhar gayi .har bhav ko bahut hi khoobsurti se uker gayi aapki rachna . bdhai

    ReplyDelete
  27. bhej dena samjhabujha kar ...ki mein yaha akeli rah gayee hu...behad bhavpoorn..

    ReplyDelete
  28. भाव से पूर्ण ...बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  29. अच्छी रचना के लिए आपको बधाई । आप हमेशा सृजनरत रहें और मेरे ब्लॉग पर आपकी सादर उपस्थिति बनी रहे । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  30. बेहतरीन रचना के लिए बधाई...
    इसी तरह लिखती रहे मेरी शुभकामनाए,...
    मेरे पोस्ट में आपका इंतजार है,..

    ReplyDelete
  31. मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  32. प्राकृतिक सौन्दर्य में
    रची-बसी
    अद्भुत , अनुपम रचना ..... !

    ReplyDelete
  33. सुंदर रचना,...
    मेरे नए पोस्ट "प्रतिस्पर्धा"में स्वागत है ...

    ReplyDelete
  34. सुंदर और मनभावन रचना के लिए बधाई !

    लगा जैसे पकृति की गोद में जा बैठे हों … … …

    बहुत बहुत साधुवाद !

    ReplyDelete
  35. क्या कहूँ मृदला जी
    पढकर बस शांत सा हो गया हूँ . आपके लेखन को सलाम करता हूँ . प्रकृति और मन के भावो का अच्छा भागीदारी है आपकी इस नज़्म में . दिल खुश हो गया जी ..

    बधाई !!
    आभार
    विजय
    -----------
    कृपया मेरी नयी कविता " कल,आज और कल " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/11/blog-post_30.html

    ReplyDelete
  36. bahut hi sundar bhav vibhor kar dene wali rachna..
    sach mein prakriti se taarmay banane se man ko ek gahra sukun milta hai...

    ReplyDelete
  37. सुंदर रचना के लिए बधाई मृदुलाजी!
    कृपया "कुछ पल" पर आ कुछ देर बिताए और बहुमुल्य समीक्षा करे! आभार!

    ReplyDelete
  38. मन है कि बच्चों में ही उलझा रहता है । सुंदर भावभीनी प्रस्तुति ।

    ReplyDelete