Thursday, February 3, 2011

ख्वाहिशे सब्ज़े-सफ़र......

आप सब जाने-अनजाने लोग जो अपनी बहुमूल्य टिप्पणी देते रहते हैं, उसके लिए मैं ह्रदय से आभारी हूँ.यह बहुत बड़ा सहयोग है आप सबों का..... जिससे बेहद ख़ुशी मिलती है......."

                                                    
"ख्वाहिशे सब्ज़े-सफ़र (जिंदगी की खुशहाली)
ना खत्म हो,
ऐ ख़ुदा
तेरी दुआओं से रहें
महफूज़ (सुरक्षित) हम, 
रंगे - मौसम - रौनकों से
सामना होता रहे,
ऐ ख़ुदा
तेरी दुआओं का
मुनव्वर (प्रकाश),
साथ हो."

37 comments:

  1. खूबसूरत दुआ है.आमीन
    शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  2. दिल कि गहराइयों से निकली दुआ है ....बहुत सुंदर भाव

    ReplyDelete
  3. मृदुला जी! बड़ी ख़ूबसूरत इल्तिजा है आपकी! अपनी आँखें बंद किये गुफ्तगू कर रहा हूँ उससे जिससे कभी कुछ नहीं माँगा..
    जानकर ये ख़ुदा से कुछ न कहा
    वो मेरा हाल जानता होगा!!

    ReplyDelete
  4. khuda ki duaaon ka munnavar hamesha saath hoga ...

    ReplyDelete
  5. हमारी भी यही दुआ है। आपके लिए, हमारे लिए और सबके लिए :)

    ReplyDelete
  6. arey......!
    padhte hi zubaan se yahi nikla...baad mein dekha ke sabne yahi kaha hai....;)

    ReplyDelete
  7. बहुत ही खूबसूरत शब्‍द ...।

    ReplyDelete
  8. आपकी दुआ में असर हो ...
    सब के जीवन में ऐसी ही रौशनी रहे ..

    ReplyDelete
  9. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार ०५.०२.२०११ को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  10. हाँ .... ..जब मानव ह्रदय परमात्मा को बारम्बार आभार देना चाहता हैतो यही निकलता है .आमीन

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर आकांक्षा है ! और इतनी सादगी से की गयी है कि खुदा उसे पूरी किये बिना कैसे रह सकता है ! तथास्तु ! बधाई एवं शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. इसी दुआ में मेरी तरफ से भी जोर लगा दें...आपके साथ खडा हूँ मैं भी....तथास्तु...

    ReplyDelete
  13. आदरणीया मृदुला प्रधान जी सादर नमस्कार .बहुत सुन्दर लिखा है आपने .बधाई

    ReplyDelete
  14. सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  15. mere blog pr behtarin comment dene k liye dhanywad.
    Aapke comment mere liye bahut important hai bcz its help to improve my skill.

    ReplyDelete
  16. आपकी यह दुआ क़बूल हो...आमीन !

    ReplyDelete
  17. दिल से निकली दुआ है ....बहुत सुंदर भाव

    ReplyDelete
  18. हम भी यही दुआ करते हैं.


    सादर

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर -
    गहरे भाव

    ReplyDelete
  20. मृदुला जी,

    बहुत खूबसूरत पर एक बात कहना चाहूँगा......दुआ खुदा से होती है खुदा की नहीं.......उसकी तो रहमत होती है जो हम पर बरसती है......दुआ तो हम करते है उस खुदा से उसकी रहमतों की |

    ReplyDelete
  21. सुन्दर एहसास ...सुन्दर दुआ.

    ReplyDelete
  22. इस खूबसूरत दुआ की रोशनी हमेशा बनी रहे जीवन मे.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  23. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    ReplyDelete
  24. बहुत प्रेरणा देती हुई सुन्दर रचना ...
    फुर्सत मिले तो 'आदत.. मुस्कुराने की' पर आकर नयी पोस्ट ज़रूर पढ़े .........धन्यवाद |

    ReplyDelete
  25. ऐ ख़ुदा
    तेरी दुआओं का
    मुनव्वर (प्रकाश),
    साथ हो."


    प्रेरणादायी रचना मेरे लिए

    ReplyDelete
  26. बेहद सुन्दर रचना.... भाव तो सुन्दर हैं ही... लेकिन भाषा का सहज प्रवाह... इतना सुन्दर है कि यह पंक्तियाँ बार बार पढ़ने को मन करता है...

    मेघ-मालाओं ने कहा-
    'बरसना है अभी और.'
    हवाओं को जाना था,
    खुशबू लेकर
    दूर-दराज़,
    नदियों-झीलों को
    करनी थी,
    अठखेलियाँ
    और
    पहाड़ों पर जमी हुई
    बर्फ़ ने कहा-
    'बहुत दूर है
    तुम्हारा घर.'
    झरनों से गिरता हुआ
    कल-कल,
    दूब पर फैली
    हरियाली,
    ताड़, खजूर युक्लिप्टस
    और चिनारों ने
    सुना दी,
    अपनी-अपनी....

    ReplyDelete