Tuesday, February 22, 2011

.......... और एक दिन

.......... और एक दिन
झिंगुर ने,
झिंगुरानी से यह कहा-
प्रिय.....
प्यार,कर्म,विश्वास
मिलाकर,
जो दिवार हम
खड़ी किये,
चलो-चलो
फिर से
रंगते हैं,
आखिर हम-तुम
क्यों
लड़ते हैं?
क्यों न आज हम 
उन लम्हों की
कसमें खाएं,
सूर्य,चन्द्र और
अग्नि-वरुण-जल
साथ चले थे.....
क्यों न आज हम
उन लम्हों का
जश्न मनाएं,
जहाँ हमारे
स्वप्न
पले थे.........
क्यों न शून्य में 
अपने 
दिल की,
धड़कन खूब गुंजाएं,
कोई नाद कहे ,
कोई ध्रुपद कहे,
कोई ओम कहे,
हम सबको साथ 
मिलाएं. 






33 comments:

  1. जहाँ हमारे
    स्वप्न
    पले थे.........
    क्यों न शून्य में
    अपने
    दिल की,
    धड़कन खूब गुंजाएं,

    बेहतरीन ........।

    ReplyDelete
  2. क्यों न शून्य में
    अपने
    दिल की,
    धड़कन खूब गुंजाएं,
    कोई नाद कहे ,
    कोई ध्रुपद कहे,
    कोई ओम कहे,
    हम सबको साथ
    मिलाएं.

    Bahut khoob!Lekin jhingur kyon?

    ReplyDelete
  3. झींगुर -झिंगुरानी संवाद के माध्यम से बहुत प्रेरक , भावपूर्ण सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. अपने
    दिल की,
    धड़कन खूब गुंजाएं,
    कोई नाद कहे ,
    कोई ध्रुपद कहे,
    कोई ओम कहे,
    हम सबको साथ
    मिलाएं.

    क्या खूब सम्वाद निभाया है। एकता का नाद गुंजाया है।

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. jhingur aur jhingurani kee pyara samvaaad sach me dil khush kar gaya..:)

    ReplyDelete
  7. वाह वा ...वाह वा ...वाह वा ....
    शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  8. झींगुर -झिंगुरानी संवाद के माध्यम से बहुत प्रेरक , भावपूर्ण सुन्दर रचना. vaah vaah.

    ReplyDelete
  9. कोई नाद कहे ,
    कोई ध्रुपद कहे,
    कोई ओम कहे,
    हम सबको साथ
    मिलाएं.

    बहुत सुन्दर....

    ReplyDelete
  10. यह कविता एक संवेदनशील मन की निश्‍छल अभिव्‍यक्तियों से भरी-पूरी है।

    ReplyDelete
  11. प्रेरक और मनभावन संवाद..... सुंदर बिम्ब....

    ReplyDelete
  12. एकता की चिकी मिकी सुनकर मन प्रसन्न हो गया!

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  14. वाह! बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  15. बहुत विवेकी झींगुर है....बहुत सही सन्देश दिया उसने....तभी आज कल झींगुर बहुत बोल रहे हैं....

    ReplyDelete
  16. "ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    ReplyDelete
  17. "ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    ReplyDelete
  18. उन लम्हों की
    कसमें खाएं,
    सूर्य,चन्द्र और
    अग्नि-वरुण-जल
    साथ चले थे.....
    क्यों न आज हम
    उन लम्हों का
    जश्न मनाएं,
    .........भावपूर्ण सुन्दर

    ReplyDelete
  19. कोई नाद कहे ,
    कोई ध्रुपद कहे,
    कोई ओम कहे,
    हम सबको साथ
    मिलाएं.


    एक सुर हो जाएँ ......!!
    sunder rachna -

    ReplyDelete
  20. jhingurani :) , pehli baar ye shabd suna hai , bhav bahut achhe hain mridula ji

    ReplyDelete
  21. आखिर हम-तुम
    क्यों
    लड़ते हैं?
    bahut achchi rachna !!

    ReplyDelete
  22. क्यों न शून्य में
    अपने
    दिल की,
    धड़कन खूब गुंजाएं,

    very appealing !

    .

    ReplyDelete
  23. कोई नाद कहे ,
    कोई ध्रुपद कहे,
    कोई ओम कहे,
    हम सबको साथ
    मिलाएं.


    आमीन...बेहतरीन रचना...बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    ReplyDelete
  24. सचमुच जब झिंगुर एक साथ मिल कर गाते हैं तो एक संगीत सभा का आनंद आता है, असम में बरसात में शाम होते ही मियां मल्हार शुरू हो जाता है !

    ReplyDelete
  25. क्यों न शून्य में
    अपने
    दिल की,
    धड़कन खूब गुंजाएं,
    कोई नाद कहे ,
    कोई ध्रुपद कहे,
    कोई ओम कहे,
    हम सबको साथ
    मिलाएं.
    वाह! आपने नया आयाम दिया है नाद और उसके प्रयोग को! वाह!!

    ReplyDelete
  26. झींगुर -झिंगुरानी संवाद के माध्यम से बहुत भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  27. क्यों न शून्य में
    अपने
    दिल की,
    धड़कन खूब गुंजाएं,
    कमाल की लेखनी है आपकी, लेखनी को नमन, और आपको बधाई

    ReplyDelete