Sunday, March 13, 2011

मेरे एख्तियारों को ज़हन.....

मेरे एख्तियारों को ज़हन(दिमाग) 
मेरे तिश्नगी(प्यास) को
मुकाम दे,
मैं गुम्बदे-बे-दर(खुला आसमान)
फ़रेफ्ता(मुग्ध)
वज्दे-ज़ौक(आनंद की मस्ती)
इकराम(कृपा)दे.
वो बलायें जिनका
यकीन था,
एतराफ़(स्वीकृती)
नामंज़ूर कर
कि अहद-ए-ग़ुल(फूलों का ज़माना)
मंज़रों(दृश्य) का
सिलसिला
कायम रहे.

36 comments:

  1. खुबसूरत अर्चना हो गई!!

    शानदार हैं हर पंक्ति!!

    ReplyDelete
  2. लगता हे अब हमे भी उर्दू सीखनी ही पडेगी... बहुत सुंदर रचना, लेकिन पढने मे बहुत समय लगा, धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. मेरे एख्तियारों को ज़हन(दिमाग)
    मेरे तिश्नगी(प्यास) को
    मुकाम दे,

    बहुत सुंदर ...... ऐसा ही हो

    ReplyDelete
  4. कि अहद-ए-ग़ुल(फूलों का ज़माना)
    मंज़रों(दृश्य) का
    सिलसिला
    कायम रहे.
    Aameen!

    ReplyDelete
  5. माशा-अल्लाह...

    नज़्म भी खूबसूरत...

    ज़ज्बात भी खूबसूरत...

    ReplyDelete
  6. bahut khoob . . . subhaan allah . . .

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  8. तिश्नगी को मुकाम मिलने ने खवाहिश , बहुत सुन्दर मुबारकवाद कबुल करें

    ReplyDelete
  9. ahad e gul manzar kayam rahein , suner nazm hai mridula ji

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत ...अर्थ न दिए होते तो कुछ भी समझ नहीं आता :)

    ReplyDelete
  11. आदरणीया मृदुला प्रधान जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    वो बलायें जिनका
    यकीन था,
    एतराफ़ नामंज़ूर कर
    कि अहद-ए-ग़ुल मंज़रों का
    सिलसिला कायम रहे …


    बहुत ख़ूबसूरत नज़्म है …
    पढ़ कर दिली मसर्रत हुई । भरपूर मुबारकबाद !

    आपका बेहतरीन अंदाज़ में उर्दू लफ़्ज़ों के साथ नज़्म कहना मुझे हैरत में भी डाल रहा है …

    # आपकी किताबें कैसे उपलब्ध हो सकेंगी मुझे ?

    होली की अग्रिम शुभकामनाओं सहित

    चंद रोज़ पहले आ'कर गए
    विश्व महिला दिवस की हार्दिक बधाई !
    शुभकामनाएं !!
    मंगलकामनाएं !!!

    ♥मां पत्नी बेटी बहन;देवियां हैं,चरणों पर शीश धरो!♥



    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर .....बेहतरीन अंदाज़...

    सिलसिला
    कायम रहे.......

    ReplyDelete
  13. sach kahun.....
    waise to aapne har shabd ka arth bata diya..
    lekin arth jaan kar fir padhna...andar tak nahi ja paya...
    beshak ek achchhi kriti hai!

    ReplyDelete
  14. क्या कहने हैं इस मज़म के ... कुछ अलग अंदाज़ में लिखा है आज आपने ..

    ReplyDelete
  15. हर एक पंक्तियाँ बहुत सुन्दर हैं! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  16. कविता अपना प्रभाव छोड़ रही है

    ReplyDelete
  17. उर्दू की चाशनी में डुबा कर दिल की हसरतों को आपने बयां किया शुक्रिया, शुक्रिया !

    ReplyDelete
  18. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।।

    ReplyDelete
  19. कि अहद-ए-गुल
    मंजरों का
    सिलसिला
    कायम रहे '
    .........ऐसा ही हो |

    ReplyDelete
  20. बहुत बढ़िया प्रस्तुति ....कुछ नया पढने को मिला बहुत अच्छा लगा. शुक्रिया !

    ReplyDelete
  21. कि अहद-ए-गुल
    मंजरों का
    सिलसिला
    कायम रहे '


    बहुत ही सुन्दर रचना, आभार

    होली के पावन पर्व की अग्रिम शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  22. आदरणीया मृदुलाजी होली की शुभकामनाएं |अच्छी नज्म बधाई |

    ReplyDelete
  23. Mrudula jee kitani khalis urdu likhtee hain aap . par prarthana sunder hai. aapke arth ne bahut madad kee.

    ReplyDelete
  24. आदरणीया मृदुला प्रधान जी
    नमस्कार !
    ...........बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  25. कई दिनों व्यस्त होने के कारण  ब्लॉग पर नहीं आ सका
    बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  26. बहुत खूबसूरत रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  27. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  28. .

    कि अहद-ए-ग़ुल
    मंज़रों का
    सिलसिला
    कायम रहे....

    आमीन !

    .

    ReplyDelete
  29. @ आप कितना अच्छा लिखती हैं ?
    मुबारक हो आपको रंग बिरंग की खुशियाँ .
    हा हा हा sss हा हा हा हा ssss

    ReplyDelete
  30. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  31. बेहतरीन!
    आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete