Friday, March 18, 2011

काश तुम देख पाते.........

कई बार दूसरों के भोगे गए यथार्थ को हम, अपने शब्दों का जामा पहना देते हैं.........उसीका एक उदहारण आप सब के सामने प्रस्तुत है......
बाबा,
तुम कहाँ चले गए......
खेलने की उम्र में
मुझे
बिलखता छोड़कर.
काश तुम देख सकते,
तुम्हारा
वह असहाय पुत्र,
आत्म-बल से
बाधाएँ
पार करता हुआ,
अपने पैरों पर
खड़ा
हो गया है.
काश तुम देख सकते,
तुम्हारे
पुत्र के सशक्त
 कंधे,                                                    
घर-संसार चलाने में
सक्छम
हो गए हैं,
उसकी हथेलियों में
खुशियाँ
भरने लगी हैं,
काश तुम देख सकते,
तुम्हारे घर की
चौखट को,
तुम्हारी पुत्रवधू ने,
आलता-दूध में
पांव रखकर,
पार कर लिया है
और मैं सोचता हूँ.....
तुम
कितने खुश होते,
काश तुम देख सकते . 




29 comments:

  1. होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. Aankhen nam karne wali rachana!
    Holikee anek shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  3. bhig gaya man , pad kar itni savdensheel rachna..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति|

    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन प्रस्‍तुति ...होली की शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  6. सच है ख़ुशी के मौके पर बिछड़े हुए जादा याद आते हैं ....

    बहुत बढिया...सुन्दर कविता .
    आपको होली की शुभकामनाये
    ...

    ReplyDelete
  7. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर कविता ! उम्दा प्रस्तुती! ! बधाई!
    आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. तुम्हारे घर की
    चौखट को,
    तुम्हारी पुत्रवधू ने,
    आलता-दूध में
    पांव रखकर,
    पार कर लिया है
    और मैं सोचता हूँ.....
    तुम
    कितने खुश होते,
    काश तुम देख सकते .
    we dekhte hain aur bahut khush hote hain ...holi ki shubhkamnayen

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति दी है आपने बहुत मुश्किल होता है किसी के मनोभावों को महसूस करना और उन्हें शब्दों में पिरोना.....प्रशंसनीय|

    ReplyDelete
  11. और मैं सोचता हूँ.....
    तुम
    कितने खुश होते,
    काश तुम देख सकते
    dard bhari rachna ,sab kuchh hota hai magar kami nahi poori hoti .sundar .holi ki badhai mridula ji .

    ReplyDelete
  12. बहुत मर्मस्पर्शी..होली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. A beautiful creation indeed ...होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. बहुत ही मार्मिक रचना...अंदर तक छु गयी ये रचना...मृदुला जी आपको और आपके पूरे परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  15. रंगों की चलाई है हमने पिचकारी
    रहे ने कोई झोली खाली
    हमने हर झोली रंगने की
    आज है कसम खाली

    होली की रंग भरी शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  16. होली का त्यौहार आपके सुखद जीवन और सुखी परिवार में और भी रंग विरंगी खुशयां बिखेरे यही कामना

    ReplyDelete
  17. ऐसा होता है ... जो भी इंसान कुछ करता है अपनो को ही तो दिखाना चाहता है ... संवेदनशील रचना है .....
    आपको और समस्त परिवार को होली की हार्दिक बधाई और मंगल कामनाएँ ....

    ReplyDelete
  18. मार्मिक भावों से सजी सुंदर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  19. achhi panktiyaan hain. Achha chitran.

    ReplyDelete
  20. रंग-पर्व पर हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  21. नेह और अपनेपन के
    इंद्रधनुषी रंगों से सजी होली
    उमंग और उल्लास का गुलाल
    हमारे जीवनों मे उंडेल दे.

    आप को सपरिवार होली की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  22. sunder bhaavpoorn abhivykti.
    aswasthta kee vajah se ek arase baad laptop chiya hai.kafee kuch padna choot gaya koshish rahegee ki dheere dheere sab pad loomai varna nuksaan mera hee hai...

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. तुम्हारे घर की
    चौखट को,
    तुम्हारी पुत्रवधू ने,
    आलता.दूध में
    पांव रखकर,
    पार कर लिया है
    और मैं सोचता हूँ
    तुम
    कितने खुश होते,
    काश तुम देख सकते

    अत्युत्तम]
    आपकी इस भाव प्रधान कविता ने मर्म को स्पर्श किया है।

    ReplyDelete
  25. कितने खुश होते ,
    काश तुम देख सकते !!
    माली बाग़ की खुशहाली सुनिश्चित करता है !
    बाग़ केवल धन्यवाद दे सकता है !
    टीस उठाती कविता !

    ReplyDelete
  26. मृदुलाजी कमाल की कोमल अभिव्यक्ति है । सच, सब की भावनाओं को उद्वेलित करती है ये कविता । बम सभी तो सोचते हैं बाबा काश तुम देख पाते ।

    ReplyDelete
  27. तुम कहाँ चले गए......
    खेलने की उम्र में
    मुझे
    बिलखता छोड़कर.
    काश तुम देख सकते,
    तुम्हारा
    वह असहाय पुत्र,
    आत्म-बल से
    बाधाएँ

    बहुत ही सुन्दर रचना है ! दिल को छू गई !!

    ReplyDelete