Saturday, August 20, 2011

सुबह-सबेरे आज तुम्हारी आँख खुली है..........

ये  कविता 1969-70 की मनःस्थिति  में   लिखी थी . समय कितना आगे बढ़ गया......... और       कितना कुछ   पीछे छूट गया लेकिन ये पंक्तियाँ अभी भी जस की  तस मेरे आस- पास मंडराती रहतीं हैं ..............पता  नहीं आज की    दौड़ में,  जाने-अनजाने प्रबुद्ध  पाठकों    की कैसी    प्रतिक्रिया   होगी इस पर.......होगी भी या नहीं.........



सुबह-सबेरे आज तुम्हारी
 आँख  खुली है ,
बस मुझको एक 
चाय पिला दो......
बाकी दिन की
जिम्मेवारी
मैं ले लूंगी.
ऑफिस जाने  से पहले 
तुम, बिस्तर पर
चादर 
बिछ्बा दो ,
और
एक सूखा कपड़ा ले,
मेज़,कुर्सियां,
सोफा, टीवी से थोड़ी
धुलें,
झड़बा दो ,
धूलों से होती 'एलर्जी'
इसीलिए 
'डस्टिंग' करबा दो ,
बाकी दिन की
जिम्मेवारी
मैं ले लूंगी.
मेज़ लगी है
खा लो जल्दी,
ऑफिस को देरी 
होती  है,
मगर ज़रा तुम 'टोस्ट'
करा दो......
क्योंकि मैंने अभी-अभी
नाखूनों पर,
'पॉलिश' कर ली है.
सब कुछ  रखा है
टेबल पर,
तुम सिर्फ ज़रा
 अंडे छिलबा दो,
बाकी दिन की
जिम्मेवारी
मैं ले लूंगी.
कल मैंने देखा
पेपर में,
कि नई एक दुकान
खुली है,
'कनॉट-प्लेस' के 
चक्कर में ,
शुरू-शुरू में शायद वो
कुछ सस्ता दे,
सो ऐसा करना ,
आते वख्त  वहीँ से,
'तंदूरी-चिकेन'
ले  आना दो,
बाकी खाने की
जिम्मेवारी
मैं  ले लूंगी.
छः-आठ समोसे
रख लेना,
मीठा जैसा तुमको भावे,
आते ही शोर मचाओगे
कि जल्दी से,
कुछ  खाना दो,
सब चीज़ें लेकर
छः बजते  ही, वापस 
घर को 
आ जाना,
सुबह-सबेरे तुमने मुझको
चाय पिलाई,
शाम चाय की
जिम्मेवारी
मैं ले लूंगी.
 



   

27 comments:

  1. हा हा हा ...कश ऐसा हो पाए ..बाकी ज़िम्मेदारी तो उठाई ही जा सकती है ...

    ReplyDelete
  2. आज के समय की कविता ही लगती है.. बहुत सुन्दर... समय से परे भावों की कविता है..

    ReplyDelete
  3. लीजिए मृदुला जी! आपने तो आज से तीस चालीस साल पहले इस कविता के सृजन की जिम्मेदारी ली थी और आज इसे प्रकाशित करने की भी जिम्मेदारी निभाई.. अब हमारे ऊपर जिम्मेदारी है ईमानदारी के साथ प्रतिक्रया देने की.. ऐसा लगता है मानो किसी नयी नवेली दुल्हन के घर झाँक रहे हैं हम और अंदर से आवाज़ आ रही है कि बड़े अरमान से रक्खा है बालम तेरी कसम, प्यार की दुनिया में ये पहला कदम!!
    बहुत सुन्दर!!

    ReplyDelete
  4. नई नई गृहस्थी में यह सब चलता है...कितनी मासूमियत से सारी जिम्मेदारी उठाई जाती है कि सामने वाले को खबर भी नहीं होती...

    ReplyDelete
  5. इतनी पुरानी कविता में पूरा का पूरा "आज" झलक रहा है !
    आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत रोचक प्रस्तुति...आज के हालात पर भी उतनी ही खरी बैठती है.

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना....

    ReplyDelete
  8. mridula ji nahi janti aap umr ke kis padaav par hain ...han jab apne ye post likhi tab hi shayed hamne is zami par kadam rakkha tha...ye b nahi janti ki kya aap tab grahsth me kadam rakh chuki thi...jo aisi rachna rach dali...lekin sach maine ise enjoy kiya aur vichar kiya ki aisi soch us waqt ki grahniyon ki hoti thi?

    :):):)


    http://anamka.blogspot.com/2011/08/blog-post_20.html

    ReplyDelete
  9. मनोभावों को पूरी शिद्दत से अभिव्यक्त किया है आपने इस रचना के माध्यम से .....!

    ReplyDelete
  10. ऐसी समझदार पत्नी को नमन :)

    ReplyDelete
  11. हास्य भी और व्यंग्य भी ! बहुत सुंदर ...

    ReplyDelete
  12. kya khoob kaha hai kash aesa ho jaye ........pr kahan ............
    rachana

    ReplyDelete
  13. आज ये गुज़ारिश नहीं है...अब तो है...करवाओगे नहीं तो कहाँ जाओगे...बच्चू...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर.. अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
  15. जीवन्त विचारों की बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी रचना !

    ReplyDelete
  16. हा हा हा हा .....दीदी ये तब कि नहीं आज की सोच है ...बहुत बढ़िया लिखा है आपने

    ReplyDelete
  17. kya khoob likha....

    us jamanein mein is tarah ki likhavat..kya baat hai...

    bahut hi pasand aayi:-)

    ReplyDelete
  18. सुबह-सबेरे तुमने मुझको
    चाय पिलाई,
    शाम चाय की
    जिम्मेवारी
    मैं ले लूंगी.
    bahut achchha laga padhkar .

    ReplyDelete
  19. जी मिलजुल कर चलना ही चाहिए .....
    :))

    ReplyDelete
  20. kya baat hai Mridula ji.....ye pati...bechare pati....pahali baar apke blog pr aayi...aapki kavitayain bahaut hi khubsurat ....lagin...

    ReplyDelete
  21. बडी ईमानदारी से लिखी गई सुन्दर कविता ।

    ReplyDelete
  22. वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! मन की गहराई को बहुत ही सुन्दरता से प्रस्तुत किया है! आपकी लेखनी को सलाम.

    ReplyDelete
  23. waah ..kya baat hai..bahut sundar pyaari c rachna...

    ReplyDelete
  24. wow aise lag aaj ke dhor par lekha hai ...bhot acha hai ...

    ReplyDelete
  25. फूलों का मेहराब............
    bahut sunder

    ReplyDelete