Tuesday, August 28, 2012

फूलों से कहती हूँ.....


तुम्हारी ऊँची-ऊँची 
आसमानी 
उड़ानों के नीचे,
छोटी-छोटी 
मेरी 
रोज़मर्रा कि खुशियाँ 
कुचल जातीं हैं......
उन कुचली हुई 
खुशियों को 
जोड़-जोड़कर,
मिला-मिलIकर,
तुम्हारे 
लम्बे-लम्बे 
प्रवास में,
जब,दिन का कोई 
अंत 
नहीं दीखता है,
मैं 
फूलों से कहती हूँ.....
तू क्यों खिलता है?

23 comments:

  1. मर्मस्पर्शी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  2. छोटी लेकिन सुंदर कविता... मिला-मिलाकर में मिलाकार हो गया है। कृपया ठीक कर लें..

    ReplyDelete
  3. दिल को छूती हुई पंक्तियाँ ... दिल को सीधे से लिख दिया ...

    ReplyDelete
  4. एक सुन्दर कविता..!

    ReplyDelete
  5. गहन सोच के साथ सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  6. सुविधाभोगी व्यवस्था पर तीखा व्यंग्य।

    ReplyDelete
  7. Kayi kaliyan phool nahee ban pati....kaliyon ke haath me kahan hai phool ban jana ya nahee?

    ReplyDelete
  8. आज खड़े होकर तालियाँ बजाने को जी चाहता है.. बहुत ही खूबसूरत कविता.. बहुत सरल शब्दों में बहुत ही गहरी बात!!

    ReplyDelete
  9. अच्छी पर छोटी कविता |
    आशा

    ReplyDelete
  10. परेशान हूँ इस स्पैम से.. निकालिए मेरा कमेन्ट..प्लीज़!!

    ReplyDelete
  11. मैं
    फूलों से कहती हूँ.....
    तू क्यों खिलता है?
    gazab ki shikayat

    ReplyDelete
  12. कल 31/08/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  13. दिल को स्पर्स करती भाव पूर्ण रचना,,,,,

    MY RECENT POST ...: जख्म,,,

    ReplyDelete
  14. sab apna apna kaam kar rahe hain to fool kyu n kare.....? kya aap apni khushiyon ko kuchalne se bacha paati hai.....? agar haan to aap bhi riverse counting kijiye.

    ReplyDelete
  15. बढ़िया अभिव्यक्ति...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  16. ye dil tum bin kahin lagata nahin ...ham kya karen ....
    kuchh nahin to phool se hii shikayat karen ...
    koi to sune ...
    sundar bhaav ...

    ReplyDelete