Thursday, October 28, 2010

नहीं चाहती ..........

नहीं चाहती ..........
तुम्हारी तस्वीर को 
माला पहना दूं ,
अगरबत्ती दिखा दूं ,
फूल चढ़ा दूं और
जो दूरी............
तुम्हारे-हमारे बीच
दुर्भाग्यवश,
बन गयी है,
उसे  और बढ़ा दूं.
नहीं चाहती.............
नियम-कानून से
बना-बनाकर
अनबूझ पहेलियाँ,
हल निकालूँ ,
सुनी-सुनायी
जहाँ-तहां की,
जिनकी-तिनकी,
मन में पालूँ
और
सोचने,चाहने,
याद करने की
अभ्यस्त
जिस छवि की,
उसे ही
बदल डालूँ.
प्रहार कर
अपनी छमता पर,
व्यथा को,
दिखाना नहीं चाहती........
यादों को सहेजने की,
कोई और पद्धति,
अपनाना नहीं चाहती........

47 comments:

  1. सचमुच ...आस ही तो जीने का विश्वास और सहारा देती है.

    ReplyDelete
  2. पसंद आया यह अंदाज़ ए बयान आपका. बहुत गहरी सोंच है

    ReplyDelete
  3. मन की व्यथा की बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..लाज़वाब

    ReplyDelete
  4. नहीं चाहती तुम्हारी तस्वीर को माला पहना दूं ,अगरबत्ती दिखा दूं ,
    फूल चढ़ा दूं और जो दूरी तुम्हारे-हमारे बीच दुर्भाग्यवश बन गयी है उसे और बढ़ा दूं.नहीं चाहती.............
    सुन्दर अभिव्यक्ति............

    ReplyDelete
  5. अपनी छमता पर,
    व्यथा को,
    दिखाना नहीं चाहती........
    यादों को सहेजने की,
    कोई और पद्धति,
    अपनाना नहीं चाहती........
    Behad sashakt rachana! Gazab kar diya!

    ReplyDelete
  6. नहीं चाहती ..........
    तुम्हारी तस्वीर को
    माला पहना दूं ,
    अगरबत्ती दिखा दूं ,
    फूल चढ़ा दूं ...

    भावपूर्ण रचना !
    ----------
    क्यूँ झगडा होता है ?

    ReplyDelete
  7. यादें शायद मृत हो नहीं पाती। दिल के किसी न किसी कोने में दुबक कर रहती हैं और वातावरण मिलने पर उछलकर बाहर आ जाती हैं।

    ReplyDelete
  8. यादों को सहेजने की,
    कोई और पद्धति,
    अपनाना नहीं चाहती..

    ये सच है यादें जिन्दा रहती हैं ... साथ रहती हैं ... उनसे दुःख लो या सुख ....
    सहज लेना ही अचा होता है .. अच्छी रचना है ..

    ReplyDelete
  9. स्मृति की एक नई परिभाषा... एक अद्भुत और नूतन अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  10. जीवन का सच्‍चा विश्राम आत्‍म अनुभूति में है। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!
    विचार-नाकमयाबी

    ReplyDelete
  11. मन में बसी यादें कभी नहीं मिटती ..सुन्दर अभ्व्यक्ति

    ReplyDelete
  12. सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  13. अपनी छमता पर,
    व्यथा को,
    दिखाना नहीं चाहती........
    यादों को सहेजने की,
    कोई और पद्धति,
    अपनाना नहीं चाहती...
    बिल्कुल जुदा...और प्रभावशाली अंदाज़.

    ReplyDelete
  14. JIvan ke chhote-choote aham hame apno se to dur kar dete hai lekin jivan ki sandhya bela me wahi rishte phir yaad ane lagate hain-this is universal truth and it cannot be negated at any point of life.So, please look at the brighter side of your life and make changes in your mental concept.Thans for your compressed emotional expressionon your blog. Good Morning.

    ReplyDelete
  15. प्रहार कर अपनी क्षमता पर ....
    बहुत सुन्दर .... एक नया फलसफ़ा यादों के नाम ....

    ReplyDelete
  16. व्यथा को,
    दिखाना नहीं चाहती........
    यादों को सहेजने की,
    कोई और पद्धति,
    अपनाना नहीं चाहती........
    बहुत सुंदर अंदाज़ में बयां किये आपने अपने भाव...... बहुत अच्छी रचना ...प्रभावशाली अंदाज़

    ReplyDelete
  17. oupcharikta kee deewar ko dhha vastvikta kee rah le jane walee rachana........bahut hee sunder abhivykti ......

    ReplyDelete
  18. जो दूरी तुम्‍हारे-मेरे बीच बन गयी है उसे और बढ़ा दूं... गजब की अभिव्‍यक्ति है, भावनाओं से परिपूर्ण।

    ReplyDelete
  19. bahut achche se feelings kavita mein aaya hai. it is so true.

    ReplyDelete
  20. sundar bhav pravan abhivyakti, abhar

    ReplyDelete
  21. वेदना के साथ ही ,दृढता मनोभावो की!
    समय और भाग्य को प्रेम की ताकत का अहसास कराती मन को छूती रचना!

    ReplyDelete
  22. mn ke hare har hai
    mn ke jeete jeet.
    aapki soch ki mjbooti hi aapka sbse bda smbl hai jise aapne shbdbdh kiya hai .aapko our bhi pdna chahungi .

    ReplyDelete
  23. जो दूरी............
    तुम्हारे-हमारे बीच
    दुर्भाग्यवश,
    बन गयी है,
    उसे और बढ़ा दूं.
    नहीं चाहती.............

    गजब की अभिव्‍यक्ति है, भावनाओं से परिपूर्ण।

    ReplyDelete
  24. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 02-11-2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  25. आपकी कविता पढ़ कर आज मुझे भी मेरे प्रश्न का जवाब मिल गया की एक तस्वीर पर मेरा भी दिल नहीं करता की उस पर फूल माला चढाऊ...लेकिन ऐसा क्यों था , इसका जवाब आज तक खुद को ही नहीं दे पाई थी.

    सच कहा आपने हाँ यही कुछ एहसास होते हैं.

    ReplyDelete
  26. har lihaaj se behtareen hai...bahut umdaa


    http://pyasasajal.blogspot.com/2010/10/blog-post.html

    ReplyDelete
  27. dard mere gaan ban ja ...
    jine ka ek aur nazariyaa...

    ReplyDelete
  28. सही कहा आपने तस्वीर के सामने अगरबत्ती जला कर, हार पहना करयादों को सहेजने की पध्दति अपनाना दूरियां बढाना है । यादें तो सहज स्फूर्त होती हैं बिना दस्तक दिये चली आती हैं ।

    ReplyDelete
  29. यादों को सहेजने की,
    कोई और पद्धति,
    अपनाना नहीं चाहती........
    वाह! क्या नया अन्दाज़ है कहने का…………दिल को छू गया।

    ReplyDelete
  30. सुंदर रचना, सुंदर प्रस्तुति...धन्यवाद! ...दिपावली की शुभ-कामनाएं!

    ReplyDelete
  31. सीधे ह्र्दय पर असर करती रचना । दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  32. एक खूबसूरत, संवेदनशील और मर्मस्पर्शी प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  33. मृदुला जी,
    नमस्ते!
    सुपर्ब!
    आशीष
    ---
    पहला ख़ुमार और फिर उतरा बुखार!!!

    ReplyDelete
  34. अत्यंत प्रभावशाली अभिव्यक्ति.

    दिवाली की शुभकामनाये.

    ReplyDelete
  35. इसी तरह आप से बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से जरूर करूंगा

    आप
    मेरे परिवार के सदस्य
    लगते हैं
    अब लगता नहीं कभी
    मिले नहीं है
    आपने भरपूर स्नेह और
    सम्मान दिया
    हृदय को मेरे झकझोर दिया
    दीपावली को यादगार बना दिया
    लेखन वर्ष की पहली दीवाली को
    बिना दीयों के रोशन कर दिया
    बिना पटाखों के दिल में
    धमाका कर दिया
    ऐसी दीपावली सब की हो
    घर परिवार में अमन हो
    निरंतर दुआ यही करूंगा
    अब वर्ष दर वर्ष जरिये कलम
    मुलाक़ात करूंगा
    इसी तरह आप से
    बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से
    जरूर करूंगा
    01-11-2010

    ReplyDelete
  36. इस ज्योति पर्व का उजास
    जगमगाता रहे आप में जीवन भर
    दीपमालिका की अनगिन पांती
    आलोकित करे पथ आपका पल पल
    मंगलमय कल्याणकारी हो आगामी वर्ष
    सुख समृद्धि शांति उल्लास की
    आशीष वृष्टि करे आप पर, आपके प्रियजनों पर

    आपको सपरिवार दीपावली की बहुत बहुत शुभकामनाएं.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  37. बहुत सुन्दर रचना है !
    आपको और आपके परिवार को एक सुन्दर, शांतिमय और सुरक्षित दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  38. आप को सपरिवार दीपावली मंगलमय एवं शुभ हो!
    मैं आपके -शारीरिक स्वास्थ्य तथा खुशहाली की कामना करता हूँ

    ReplyDelete
  39. आपको एवं आपके परिवार को दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  40. दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनायें ... ...

    ReplyDelete
  41. भावपूर्ण रचना !
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  42. a very good poem indeed...यादों को
    सहेजने की,
    कोई और पद्धति,
    अपनाना नहीं चाहती........
    very apt picturesqueness of emotions!

    ReplyDelete
  43. bahut hi achcha aur sahi likhe ho . . . this is you . . .

    ReplyDelete
  44. यादों को सहेजने की कोई और पद्धति होती भी नहीं शायद

    ReplyDelete